अरविंद केजरीवाल का वो एक ऐलान जिसने दिल्ली की राजनीति को हिलाकर रख दिया 

दिल्ली में 200 यूनिट तक की बिजली फ्री : केजरीवाल
अरविंद केजरीवाल का वो एक ऐलान जिसने दिल्ली की राजनीति को हिलाकर रख दिया 
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल Social Media

देश की राजधानी दिल्ली में आम आदमी पार्टी की हालात बहुत ख़राब हो चुकी है। 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान दिल्ली की सभी सात सीटों में भारतीय जनता पार्टी ने अपना परचम लहराया था और आम आदमी पार्टी शून्य पर सिमट कर तीसरे नंबर की पार्टी बन गई थी। अगर आंकड़ों का दोबारा अध्ययन किया जाए तो आने वाले विधानसभा चुनाव में भी आम आदमी पार्टी की हालात में कोई सुधार होता नज़र नहीं आ रहा है। बीजेपी दिल्ली विधानसभा चुनाव में 65 सीटें ला सकती हैं वहीं कांग्रेस के खाते में पांच सीटें जा सकती और आम आदमी पार्टी को शून्य पर संतोष करना पड़ सकता है।

विधानसभा चुनाव में हार की आशंका के बीच आज दिल्ली की गद्दी पर पिछले पांच साल से बैठी आम आदमी पार्टी ने एक बड़ा ऐलान किया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने आज दिल्ली की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि

'आज से (1 अगस्त) 200 यूनिट तक बिजली का इस्तेमाल कर रहे उपभोक्ताओं को बिल का भुगतान नहीं करना होगा। दिल्ली सरकार 200 यूनिट बिजली के इस्तेमाल पर उपभोक्ताओं को पूरी सब्सिडी देगी। लेकिन 200 यूनिट से अगर 201 यूनिट या 401 यूनिट बिजली का इस्तेमाल होता है तो सरकार उन्हें 50 फीसदी की सब्सिडी देगी।’

यानी पहले जो लोग 200 यूनिट बिजली का इस्तेमाल कर 622 रूपये बिल भरते थे सरकार ने अब उन्हें आजाद कर दिया है। अब वे मुफ्त बिजली का इस्तेमाल करेंगे।

केजरीवाल की इस योजना को विपक्षी पार्टी चुनावी स्टंट मान रही है। दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने अरविंद केजरीवाल के इस लोक लुभावन वादे का समर्थन किया है। तिवारी ने कहा कि

'केजरीवार की आम आदमी पार्टी ने दिल्ली बिजली कटौती को लेकर जो ऐलान किया है हम उस फैसले का स्वागत करते हैं। हम इस फैसले से बहुत खुश हैं। हमें हमारे संघर्ष का फल मिला और दिल्ली की जनता को 200 यूनिट तक फ्री बिजली का आश्वासन केजरीवाल सरकार से मिला है। हम उम्मीद करते हैं सरकार ये योजना जल्द शुरू करे। अब जब हमारी बिजली का बिल आएगा तो यह कितना अलग है पता चलेगा।’

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com