Migrant workers crowd in ghaziabad
Migrant workers crowd in ghaziabad|Photo Credit (ANI Twitter)
टॉप न्यूज़

दिल्ली प्रशासन ने मजदूरों का बसों में भरकर का यूपी बॉर्डर पर छोड़ा, दिल्ली-गाजियाबाद सीमा पर भारी भीड़

देश के अलग-अलग हिस्सों से दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंचे मजदूरों का बिना किसी व्यवस्था के यूपी बॉर्डर पर छोड़ दिया गया, इसी के चलते गाजियाबाद में मजदूरों कि भारी भीड़ इकट्ठा हो गयी।

Abhishek

Abhishek

कोरोना की मार सबसे ज्यादा प्रवासी मजदूरों ने झेली है, सरकारें तमाम दावे कर रही जमीन पर ये दावे खोखले साबित हो रहे है। हर प्रदेश कि सरकार प्रवासी मजदूरों कि मदद के नाम पर खानापूर्ति करती नजर आ रही है। सरकारों कि इस उदासीनता का उदहारण पैदल सड़क नापते गरीब मजदूर हैं।

आज प्रवासी मजदूरों की आवाजाही के चलते दिल्ली-यूपी सीमा पर जाम जैसे हालात बने हुए हैं। सुबह दफ्तरों का वक्त होने के चलते और बार्डर पार पहुंचने के इंतजार में मौजूद श्रमिकों की भीड़ के चलते यह हालात बने हैं। हालांकि दोनों ही तरफ दोनों राज्यों की पुलिस मौजूद है। फिर भी ट्रैफिक रेंग-रेंगकर चलने के चलते लंबी लाइन लगी हुई है।

सबसे ज्यादा मुश्किल दिल्ली से यूपी गाजियाबाद में घुसने वालों को हो रही है। क्योंकि विशेष रेलगाड़ियों से देश के दूर-दराज इलाकों से दिल्ली पहुंचे सैकड़ों श्रमिक उत्तर प्रदेश बार्डर (गाजीपुर-गाजियाबाद) पर मौजूद हैं। यह वे श्रमिक हैं जिन्हें या तो गाजियाबाद में घुसना है। या फिर वाया गाजियाबाद यूपी के अन्य जिलों में पहुंचने के लिए प्रवेश करना है।

मौजूद हालात आज के नहीं हैं यह हालात बीते दो-तीन दिनों से चल रहे हैं। गाजियाबाद पुलिस का कहना है कि, हम बिना जांच पड़ताल किये किसी को भी अपनी सीमा में नहीं घुसने देंगे। जांच में वक्त लगता है। भीड़ में तमाम ऐसे लोग भी शामिल हैं जिनके पास हमारी सीमा में प्रवेश की वैद्य मान्यता तक नहीं है। बार्डर पर इसी तरह के लोगों के चलते भीड़ बढ़ रही है।

गाजियाबाद पुलिस के मुताबिक, दिल्ली प्रशासन ने ट्रेनों से पहुंचे श्रमिकों को सीधे बसों में भरवा कर यूपी बार्डर पर भेज दिया है। हम सीधे क्यों और कैसे हर किसी को घुस आने दें। दिल्ली प्रशासन और पुलिस का वेरीफाई करना चाहिए।

उधर बार्डर पर मौजूद दिल्ली पुलिस का कहना है कि जहां तक श्रमिकों को बार्डर पार (गाजियाबाद में) भेजने की बात है, तो हम उन्हीं श्रमिकों को बार्डर पर भिजवा रहे हैं जिन्हें यूपी में जाना है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com