Delhi Riots Chargesheet
Delhi Riots Chargesheet|Google Image
टॉप न्यूज़

दिल्ली का दंगा था सुनियोजित, चार्जशीट में सामने आया पार्षद ताहिर और उमर खालिद का नाम

दिल्ली दंगों के मास्टरमाइंड ताहिर हुसैन के खिलाफ़ दाखिल चार्जशीट में 50 से ज्यादा गवाहों के बयान को शामिल किया गया है।चार्जशीट में ताहिर हुसैन और उसके भाई शाह आलम समेत 15 लोगों को आरोपी बनाया है

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

जांच में यह खुलासा हुआ है कि पार्षद ताहिर हुसैन और उमर खालिद की इस दंगे में सक्रिय भूमिका थी। इस मामले में पिजरा तोड़ नाम के संगठन की दो महिलाओं नताशा नरवाल और देवांगना को भी दोषी पाया गया है। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने दाखिल की जाने वाली चार्जशीट में इसका विस्तृत उल्लेख किया है।

दंगा पूरा प्लांड था:

एक ओर जहां दिल्ली में सीएए और एनआरसी के विरोध की आग भड़क रही थी वहीँ कुछ लोगों ने इस कानून विरोध को धार्मिक रंग देते हुए इसे हिन्दू मुस्लिम करार दिया तथा साथ ही दिल्ली के दिल मे बड़ा दाग देने की कोशिश की और इसके सारे सुबूत जांच में सामने आ चुके हैं। इस घटना की शुरुआत गुजरात मे अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प के आने की सुगबुगाहट से ही शुरू हो गयी थी क्योंकि यही वक्त था कि जब सरकार और पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर अपनी नजर थोड़ी धीमें कर दी थी और इसी बीच प्रदर्शन की आड़ में अराजकतावादी लोगों को दंगे रचने की आजादी मिल गयी।

दंगे के बीच हुयी अंकित शर्मा की मौत पर भी ताहिर के जुड़ाव के आरोप लगे थे।

चाँदबांग से पहले रची कहानी:

अगर जांच की बात माने तो दिल्ली के चांद बाग इलाके में हुई हिंसा से पहले ही आम आदमी पार्टी से नगर निगम पार्षद ताहिर हुसैन के द्वारा इसकी तैयारियों में जोर लाया गया और तैयारी की स्थिति कुछ इस तरह थी कि ताहिर द्वारा दिल्ली के हुजूरी खास थाने में जमा पिस्टल भी उठाई गई ताकि दंगे के वक्त इसका संभावित उपयोग हो सके और ऐसा हुआ भी। मामले में यह पाया गया है कि दंगो में इस पिस्टल का उपयोग भी किया गया। दंगे के इस मामले में ताहिर हुसैन और उमर खालिद पक्के मास्टरमाइंड निकल कर सामने आए।

दिल्ली दंगे का एक वाकया :

सोशल मीडिया से रची साजिश:

दंगे भड़काने के लिए सबसे पहले व्हाट्सएप द्वारा दंगे की पूर्व तैयारी की गई जिसमें यह सुनिश्चित किया गया कि दंगे के दौरान समुदाय विशेष के लोगों का कम से कम नुकसान हो। व्हाट्सएप की भाषा शैली को देखकर लगता है कि किसी भी स्थिति में दूसरे समुदाय को नुकसान पहुँचाना मुख्य लक्ष्य था। बीते मंगलवार के दिन दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने प्रसारित व्हाट्सएप के मैटर को साक्ष्य के रूप में उपलब्ध कराया है।

व्हाट्सएप चैट की भाषा शैली देखे :

  • घर मे खोलता तेल और पानी पर्याप्त मात्रा में रखें।

  • बहुमंजिला इमारत की सीढ़ियों पर तेल, वाशिंग पावडर युक्त पानी, शैम्पू , मोबिल ऑयल फैला दें।

  • पानी मे तीखी लाल मिर्च या सूखे लाल मिर्च तैयार रखें।

  • दरवाजो की ग्रिल, जंगले इत्यादि मजबूत रखे, जरूरत हो तो फ्रेमिंग करा लें।

  • घर मे तेजाब से भरी हुए कांच की बोतले तैयार रखें।

  • पेट्रोल की बोतलें तैयार रखें।

  • घर की छतों और बालकनियों पर फेंकने योग्य पत्थर जमा कर लें।

  • एक मकान से दूसरे मकान जाने के लिए रास्ता तैयार रखें।

  • सारे मर्द हजरात एक साथ घर को छोड़कर खाली न करें, कुछ लोग घर की महिलाओं के लिए रुकें।

गौर करने वाली बात यह कि जिस ताहिर हुसैन को दिल्ली दंगों में पाक साफ बताया जा रहा था उसके द्वारा दिल्ली दंगे मामले में दूसरे दंगे के आरोपी उमर खालिद के साथ-साथ खालिद सैफी के साथ दंगो की इबारत रची थी। मामले में प्रयुक्त पिस्टल को क्राइम ब्रांच द्वारा जब्त कर लिया गया है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com