उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
आलोक वर्मा
आलोक वर्मा|Google
टॉप न्यूज़

CBI Vs CBI: आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेज, एम नागेश्वर राव बने CBI निर्देशक 

CBI निर्देशक आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजकर सरकार ने एम नागेश्वर राव को CBI का नया निर्देशक बनाया है। आलोक वर्मा इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे रहे है ,26 अक्टूबर को सुनवाई होगी। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: CBI में धोखा-धड़ी और घुसकांड को लेकर उठा भीतरी कलह अब विवाद बनता जा रहा है। इसी बीच CBI के चीफ आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया गया है। केंद्र सरकार द्वारा कड़ी करवाई करते हुए दोनों अधिकारीयों के ऑफिस और सीबीआई (CBI) मुख्यालय स्थित अन्य दफ्तरों को सील कर दिया गया है , वहीं CBI के ज्वाइंट डायरेक्टर पद पर रहे एम नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निर्देशक नियुक्त किया गया है। अब अग्रिम आदेश तक एम नागेश्वर राव सीबीआई की कमान संभालेंगे।

आपको बता दें कि सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर मोइन कुरैसी केस में कथिक रूप से 2 करोड़ रूपये घुस लेने का आरोप लगाकर केस दर्ज किया गया है। जिसके बाद सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना ने निर्देशक आलोक वर्मा पर भी घूस लेने का आरोप लगाया। इस मामले में करवाई करते हुए हुए सीबीआई हेडक्वाटर्र पर छापे मारे गए और देवेंद्र सिंह सिंह को गिरफ्तार कर लिए गया। मंगलवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने सुनवाई के दौरान स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना और देवेंद्र सिंह के खिलाफ जबरन पैसे वसूली और जालसाजी का आरोप लगाया। जिसमें देवेंद्र कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है और राकेश अस्थाना को दिल्ली हाई कोर्ट ने 28 अक्टूबर तक राहत दी थी।

सीबीआई के राकेश अस्थाना और अलोक वर्मा के बीच चल रहे ड्रामे को देखते हुए विपक्ष ने केंद्र सरकार को निशाना साधा है। विपक्षी पार्टी ने केंद्र सरकार पर देश को बर्बाद करने का आरोप लगाया है। अपने ऊपर लगे एफआईआर को निरस्त करने के लिए राकेश अस्थाना ने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। जिसके बाद न्यायाधीश ने सीबीआई से कहा कि वह मामले में विशेष निर्देशक के खिलाफ शुरू की गए आपराधिक कार्यवाही पर 29 अक्टूबर को मामले की अगली सुनवाई तक यथास्थिति बनाए रखे।

हालांकि अदालत ने अपनी करवाई में स्पष्ट किया कि इस मामले की गंभीरता को देखते हुए इसके जांच में खलन नहीं आना चाहिए। इस घटना में देवेंद्र सिंह के खिलाफ दर्ज रिपोर्ट निरस्त करने और मामले से जुड़े कागजात दिल्ली हाई कोर्ट को सौपने की याचिका दायर की गई है। आपको बता दें, सीबीआई के स्पेशल निर्देशक के पद पर तैनात राकेश अस्थाना गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं , उनके कार्यकाल को 2 महीने के बाद समाप्त होने वाला था।