उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
राकेश अस्थाना
राकेश अस्थाना|Times
टॉप न्यूज़

CBI घूसकांड आरोपी राकेश अस्थाना का क्या है मोदी कनेक्शन 

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के प्रमुख आलोक वर्मा से निदेशक का प्रभार वापस ले लिया गया है और सरकार ने फिलहाल सीबीआई के संयुक्त निदेशक एम.नागेश्वर राव को यह प्रभार सौंप दिया है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के प्रमुख आलोक वर्मा से निदेशक का प्रभार वापस ले लिया गया है और सरकार ने फिलहाल सीबीआई के संयुक्त निदेशक एम.नागेश्वर राव को यह प्रभार सौंप दिया है। मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने यह फैसला मध्यरात्रि में लिया जो एसीसी सीबीआई प्रमुख आलोक वर्मा व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के एक दूसरे पर रिश्वत लगाने के आरोपों के बीच लिया गया है।

आधिकारिक बयान में कहा गया, "एसीसी ने यह मंजूरी दी है कि वर्तमान में सीबीआई के संयुक्त निदेशक के तौर पर काम कर रहे एम. नागेश्वर राव सीबीआई निदेशक के कर्तव्यों व कार्यो की देखरेख करेंगे और वह तत्काल प्रभाव से प्रभार संभाल लेंगे।"

इस पूरे मामले में विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी पर ऊँगली उठाई है , प्रधनमंत्री मोदी पर सीबीआई की साख पर बट्टा लगाने का आरोप लगाया जा रहा है ,बताया जा रहा है सीबीआई के विषेश निर्देशक राकेश अस्थाना और प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह बेहद करीबी हैं।

कौन है राकेश अस्थाना

राकेश अस्थाना 1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं। झारखण्ड के राँची में जन्मे राकेश अस्थाना की शुरुआती पढाई नेतरहाट आवासीय विद्यालय से हुए है ,कॉलेज की पढाई उन्होंने सेंट जेवियर्स कॉलेज से की, फिर आगे की पढाई के लिए वह दिल्ली जेएनयू पहुंच गए। दिल्ली जा कर वह संघ लोक सेवा आयोग की पढाई में जुट गए , अपने पहले प्रयास में ही उन्हें सफलता हाथ लगी।अस्थाना के पिता टीचर है। अस्थान पहली बार 1996 में चर्चा में आये थे जब उन्होंने बिहार के तत्कालीन मुख्य मंत्री लालू प्रसाद यादय को चारा घोटाला के आरोप में गिरफ्तार किया था।

राकेश अस्थाना का नरेंद्र मोदी कनेक्शन

यह वो वक्त था जब प्रधानमंत्री मोदी गुजरात के मुख्य मंत्री थे, उस वक्त गुजरात में गोधरा कांड की घटना हुए थी , उसकी जांच के लिए गठित हुए स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम (SIT) का राकेश अस्थाना नेतृत्व कर रहे थे और सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में दंगों की जांच की गई , जिसमें गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी पर तमाम आरोप लगे थे। सूत्रों के मुताबिक अस्थाना के नेतृत्व वाली SIT टीम ने कोर्ट में कहा था कि कारसेवकों से भरी ट्रेन को सुनियोजित तरीके से आग के हवाले किया गया था। इस दौरान राकेश अस्थाना पर नरेंद्र मोदी के इशारों पर काम करने का आरोप भी लगा था।

आपको बता दें, राकेश अस्थाना ने ही अहमदाबाद में 2008 में हुए बम धमाकों को जाँच की थी , उस वक्त अस्थाना सूरत -वडोदरा के कमिश्नर थे , कहा जाता है इस दौरान उनकी मोदी और अमित शाह से नजदीकियाँ बढ़ी। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा गठित टीम ने ही राकेश अस्थाना को सीबीआई का स्पेशल निर्देशक नियुक्त किया था।