नाव से पहुँचाया बहन को राशन
नाव से पहुँचाया बहन को राशन|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

लॉक डाउन में बहन के घर नाव से पहुंचा भाई, राशन हो गया था खत्म 

अब इसे स्थानीय प्रशासन की अनदेखी कहें या फिर विभीषिका, जब एक बहन के यहां राशन खत्म हो गया तो उसने इस संबंध में यह जानकारी अपने भाई को दी, और भाई ने नायाब रास्ता खोज निकाला।  

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

नाव के सहारे तय की दूरी :

दरअसल बाँदा जिले के भूरागढ़ निवासी सरवन केवट को बोधि पुरवा निवासी उसकी बहन ने सूचना दी कि उसके घर में उपलब्ध सारा राशन खत्म हो चुका है ऐसे में उसको राशन की सख्त जरूरत है। चूंकि सरवन की बहन दिहाड़ी मजदूर है और लॉक डाउन की वजह से काम धंधा बंद हो जाने की वजह से सभी आय के स्रोत बंद है और किसी भी प्रकार से सामान भी नहीं खरीदा जा सकता। इस खबर को पाकर सरवन ने किसी भी हालत में अपनी बहन तक जरूरी राशन पहुँचाना जरूरी समझा।

सड़क मार्ग से पुलिस का ख़ौफ़ :

सरवन ने बताया कि वह सबसे पहले सड़क मार्ग से जाने की कोशिश में था लेकिन पुलिस की सख्ती की वजह से उसने सबसे नायाब तरीका अख्तियार किया और बिना किसी बेवजह रोक-टोक के नाव के सहारे बोधीपुरवा जाने का निश्चय किया।

सरवन का भी काम धाम है ठप :

सरवन भी केन नदी के किनारे रेती में बारी ( गर्मी के मौसम में तरबूज, खरबूज, ककड़ी, सब्जी भाजी उगाकर) और नदी में नाव चलाकर जीवन यापन करता है। लेकिन कोरोना से बचाव के लिए सरकार के देशव्यापी लॉक डाउन की वजह से आय बेहद कम या खत्म सी हो गयी है। लेकिन बहन की समस्या की वजह से सरवन अपनी पत्नी के साथ बहन के लिए दाल, चावल, गेंहू और आटा लेकर पहुंचा।

पूरे क्षेत्र में सरवन की इस घटना को लेकर चर्चा का विषय बना हुआ है"

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com