Coronavirus vaccine human trials in india
Coronavirus vaccine human trials in india|Uday Buletin
टॉप न्यूज़

कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के लिए लोगों ने दिखाई चाहत, एम्स भी भौचक्का

एम्स में जहाँ कोरोना वैक्सीन ट्रायल के लिए मात्र 100 वालेंटियर की जरूरत है, वहीँ देश भर से युवाओं, बुजुर्गों, महिलाओं समेत करीब 1800 लोगों ने वालेंटियर बनने की ख्वाहिश जाहिर की है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) ने बताया कि कोरोना वैक्सीन ट्रायल के लिए वॉलंटियर्स बनने के लिए जो फोन नंबर अपनी वेबसाइट पर दिया था, उस पर अब तक करीब 1800 लोग फ़ोन कर चुके हैं

देश में बस एक ही चाहत, ये कोरोना का किस्सा खत्म हो:

देश मे कोरोना के बढ़ते मरीज़ों की स्थिति ने माहौल को बद से बदतर बना दिया है जिसकी वजह से देश भर में एक अनचाहे भय का माहौल जन्म ले चुका है। लेकिन इस माहौल में देश में जोश भरने वाली खबर एम्स से आई है जिसकी वजह से लोगों को थोड़ा सुकून मिलेगा। भारत भर में करीब 14 जगहों पर भारत बायोटेक और आईसीएमआर के सौजन्य से बनी देशी वैक्सीन (bharat biotech corona vaccine) का ट्रायल होना शुरू हो गया है। कई बार हुई मीटिंग्स के बाद अब एम्स में भी इस वैक्सीन का ट्रायल होना तय हुआ है जिसके लिए पहले चरण में एम्स 100 वालेंटियर पर वैक्सीन का ट्रायल करेगा और 14 दिन में दवा की दो खुराकें स्वस्थ्य लोगों को दी जाएगी (coronavirus vaccine human trials in india) जिसके बाद एम्स के डॉक्टरों की टीम वैक्सीन से प्राप्त होने वाले परिणामों और दुष्परिणामों का आकलन करेगी।

फोन और ई मेल के माध्यम से आ रहे आवेदन:

दरअसल पिछले दिनों ही एम्स के द्वारा वेबसाइट पर वालेंटियर बनने के लिये जनाकारी उपलब्ध कराई गई थी। जिसमें स्वस्थ्य लोगों से ट्रायल में शामिल होने की बात कही गयी थी, इसके बाद ही एम्स के द्वारा उपलब्ध कराए गए फोन और मेल पर लोगों के आवेदनों का अंबार लग गया है। लोगों ने एम्स के व्हाट्सएप, मेल और फोन पर काल करके इस परीक्षण में शामिल होने की बात कही है। इस परीक्षण के लिए अभी तक 1800 से ज्यादा लोग संपर्क कर चुके हैं। एम्स के डॉक्टरों ने इस मामले में अपनी खुशी जाहिर करते हुए बताया है कि ये हमारे ट्रायल के लिए बेहद खुशी की बात है कि मात्र 100 वालेंटियर के लिए 1800 लोग हमसे जुड़े हैं। ये हमारे भविष्य के ट्रायल्स के लिए बहुत बड़ी बात है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com