बांदा में सोने की तस्करी का हुआ बड़ा खुलासा, पकड़े गए दो तस्कर, सर्राफों पर गिरी गाज

बांदा पुलिस ने सोना तस्करों के खिलाफ चलाया अभियान और उसमे जिले के कई नमी गिरामी नाम सामने आ रहे है। पकड़े गए तस्करों ने खोले कई राज़।
बांदा में सोने की तस्करी का हुआ बड़ा खुलासा, पकड़े गए दो तस्कर, सर्राफों पर गिरी गाज
Banda Police caught gold worth 7 croresUday Bulletin

बाँदा जिले के मुख्यालय में आयकर और सेल टैक्स विभाग की संयुक्त टीम ने ताबड़तोड़ छापेमारी की, इस दौरान करोड़ो रूपये का सोना और बहुमूल्य रत्न जब्त किए गए है। इस श्रंखला में विभागों ने जिले के जाने माने ज्वेलर्स गोंदी लाल सर्राफ एंड संस के साथ अन्य जेवलर्स को राडार पर लिया। मामले को लेकर सर्राफा बाजार में हड़कंप की स्थिति है

बाँदा पुलिस ने दिखाई तत्परता:

इसे बाँदा पुलिस की तत्परता कहे या मुखबिरी का तगड़ा नेटवर्क, पुलिस अधीक्षक को एक विश्वस्त जानकारी मिलने पर जिला पुलिस ने एक बड़ा ऑपरेशन चलाया। दरअसल पुलिस को यह सूचना मिली थी कि जिले के नामी होटल और गेस्ट हाउस सारंग के कमरा नम्बर 101 में दो व्यक्ति ठहरे हुए है।

जिनके पास भारी मात्रा में गैरकानूनी तरीके से खरीदा और बेचा जाने वाला सोना उपस्थित है। जिला पुलिस ने रात को करीब तीन बजे ऑपरेशन चलाकर मथुरा निवासी तीन व्यक्तियों को उनके पास मौजूद सोने के साथ दबोच लिया। अधिकारियों ने बताया कि तीन व्यक्तियों में से एक व्यक्ति कार का ड्राइवर था बाकी दो लोग सोने के तस्कर थे। जिनके पास करीब 7 करोड़ रुपये की कीमत का सोना, भारी मात्रा में बहुमूल्य रत्न और 10 लाख नगद कैश बरामद किया गया है।

पुलिस ने मौके से एक डायरी भी बरामद की जिसमे उन स्थानीय व्यक्तियों के नाम लिखे थे जिनसे उनका लेनदेन चलता था। पुलिस ने इस मामले की जानकारी आयकर विभाग और सेलटैक्स विभाग को भी दी। जिसके बाद छापेमारी के व्यापक अभियान चलाया गया।

सर्राफा बाजार में कटा बवाल:

दरअसल आयकर और सेल टैक्स के अधिकारियों ने दोनो पकड़े गए तस्करों से पूछताछ की और यह जानकारी हाँथ लगी कि उन्होंने बाँदा जिले के कुछ सोने के व्यापारियों के साथ व्यापार किया है। जिसको लेकर आयकर और बिक्रीकर के अधिकारियों द्वारा बाँदा पुलिस के साथ मिलकर साझा अभियान चलाया गया।

इस अभियान के तहत शहर के सबसे पुराने और नामी ज्वेलर्स " गोंदी लाल सर्राफ एंड सन्स " के यहां छापेमारी की गई और बीते दिनों में खरीदे गए सोने-चांदी के आभूषणों और बिक्री किये गए आभूषणों का मिलान कराया गया। मामले को लेकर शहर के लगभग सभी जेवलर्स अपने-अपने प्रतिष्ठानों पर तालाबंदी करते नजर आए।

पुलिस को रिश्वत देने की पेशकश:

अगर सूत्रों की माने तो छापेमारी के दौरान जब दोनों तस्करों को जिला पुलिस प्रशासन ने पकड़ा तो बदहवास की स्थिति में छापा मारने गए पुलिसकर्मियों को तस्करों ने पचास लाख जैसी भारी भरकम रकम की रिश्वत देने की पेशकश भी की लेकिन बाँदा पुलिस ने अपनी सकारात्मकता के चलते दोनों तस्करों को धर दबोचा और कार्यवाही शुरू कर दी

हालांकि इस मामले में लोगों ने आशंकाएं जाहिर की है कि हो सकता है कि राजनैतिक दबाव डालकर बड़ी मछलियों को इस मामले से निकाल कर बचाने की कोशिश की जाए। हालांकि मामले के शोहरत में आने के बाद यह उम्मीद काफी कम ही बचती है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com