धार्मिक पहचान की दाढ़ी रखने पर दरोगा जी अड़े, एसपी ने किया सस्पेंड

दरोगा जी पर धार्मिक कट्टरता इतनी हावी हो गयी कि पुलिस मैन्युअल ही भूल गए, नियम-कानून ताक पर रखकर बन गए मुल्ला
धार्मिक पहचान की दाढ़ी रखने पर दरोगा जी अड़े, एसपी ने किया सस्पेंड
सब इंस्पेक्टर इंतसार अली उदय बुलेटिन

वैसे तो देश की सेना और किसी भी संगठित बल जैसे अर्द्धसैनिक बलों समेत पुलिस में बाकायदा ड्रेस कोड होता है, जिसके अनुसार एक निचले दर्जे के कर्मचारी से लेकर उच्चाधिकारियों को कड़ाई से पालन करना होता है, लेकिन अगर इस मामले में कोई विशेष कार्यप्रणाली को अलग रूप देना है तो उसके लिए विशेष रूप से परमीसन लेनी पड़ती है, लेकिन उत्तर प्रदेश के दरोगा जी को दाढ़ी को लेकर ज्यादा प्यार था इस मामले में उच्चाधिकारियों ने कई बार चेताया लेकिन दरोगा जी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे थे, नतीजन साहब को सस्पेंड कर दिया गया।

बार-बार मना करने पर भी नही माने दरोगा जी:

मामला उत्तर प्रदेश के बागपत जिले से जुड़ा हुआ है जहाँ के रमाला थाने में बतौर सब इंस्पेक्टर इंतसार अली की तैनाती है, पुलिस अधिकारियों के अनुसार उन्होंने लंबे वक्त से बिना किसी विभागीय अनुमति के दाढ़ी रखी हुई थी जिसपर उच्चाधिकारियों द्वारा लगातार वार्निंग दी जा रही थी, लेकिन दरोगा जी अपनी जिद पर अड़े हुए थे, जिसपर पुलिस अधीक्षक ने कार्यवाही करते हुए उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है और उन्हें जिले की पुलिस लाइन से अटैच कर दिया है।

जानकारी के अनुसार विभागीय अधिकारियों ने उन्हें बार-बार या तो दाढ़ी कटाने अथवा विभागीय अधिकारियों से परमीसन लेने के लिए कहा, लेकिन दरोगा जी द्वारा एसपी समेत अन्य उच्चाधिकारियों की बात लगातार नकारी जा रही थी, इससे पहले जिले के अधिकारियों ने इस मामले पर उन्हें तलब भी किया था।

दरोगा जी ने सुनाया अपना दुखड़ा:

हालांकि इस मामले पर दरोगा जी द्वारा अपने समुदाय विशेष का होने की वजह से विक्टिम कार्ड खेला जा रहा था, दरोगा जी द्वारा यह बताया गया कि अब तक सर्विस में यह पहला मौका है जब उन्हें उनकी दाढ़ी के लिए परेशान किया जा रहा है, हो सकता है कि लोगों की घृणा मेरे धर्म के चिन्ह सुन्नत अथवा दाढ़ी से हो।

पुलिस अधिकारियों ने बताया असल सच:

इस मामले पर जिले के आला पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जब भी कोई पुलिस का जवान और अधिकारी भर्ती होता है तो उसे पुलिस मैनुअल पढ़ाया और समझाया जाता है, केवल सिख धर्म के लोगों को पुलिस में विशेष छूट दी जाती है, अधिकारियों ने बताया कि ठीक इसी प्रकार सेना में भी नियम है कि जवान अपना हेयर कट भी एक विशेष स्टाइल में कराते है ताकि सभी जवान एक जैसे लगे, यहां तक कि हिन्दू धर्म के जवानों के घर में आत्मीय जनों के स्वर्गवास की स्थिति में मुंडन कराने के लिए भी परमीसन लेनी पड़ती है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com