अनुराग कश्यप ने लांघी विरोध की हदें, गृहमंत्री को कहा जानवर और नरभक्षी।

अनुराग कश्यप इन दिनों फिल्मों से ज्यादा राजनीति में दिलचस्पी ले रहे हैं।
अनुराग कश्यप ने लांघी विरोध की हदें, गृहमंत्री को कहा जानवर और नरभक्षी।
Anurag kashyap tweet on HM Amit ShahGoogle
Summary

फिल्मों और राजनीति का घालमेल सदियों से रहा है, कभी सिने स्टार राजनीति में आकर अपना दांव आजमाते है तो कभी नेता इन फिल्मी सितारों को अपने चुनाव प्रचार में उपयोग करके कुर्सी तक पहुंचने की जुगत लगाते है, लेकिन निर्माता निर्देशक अनुराग कश्यप इन दिनों फुल फोकस में होकर तगड़ा विरोध कर रहे हैं, यही कारण है कि ज्यादातर उनकी भाषा असयमित हो जाती है।

अनुराग कश्यप, नाम तो सुना ही होगा "गैंग ऑफ वासेपुर, "गुलाल" सांड की आंख, मसान जैसी फिल्मों को आपके सामने रखने वाले निर्माता निर्देशक, वो आजकल वर्तमान सरकार पर भयानक तरीके से हमलावर हो रहे है, कभी कभार तो इनकी भाषा इतनी गलत हो जाती है कि लोगों को इनकी ही एक फ़िल्म सुपर थर्टी का एक डायलॉग याद आता है "कोई इतना गलत कैसे हो सकता है" लेकिन अगले ही पल लोगों का नजरिया भी सामने आ जाता है कि जो आदमी गैंग्स ऑफ वासेपुर जैसी फिल्में बनाता हो उससे इसी तरह के विरोध की ही उम्मीद की जा सकती है।

विरोध की सारी हदें लांघी :

अनुराग कश्यप इन दिनों केंद्र और भाजपा शासित प्रदेशों की नीतियों से परेशान है उनके निशाने पर उत्तर प्रदेश और केंद्र सरकार के नेता मंत्री आ रहे है, यही कारण है कि पिछले दिनों अनुराग ने भारत के गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना लगाया।

अपने ट्वीट में अनुराग ने कहा कि अपना गृहमंत्री कितना डरपोक है कि वह खुद की पुलिस और खुद की सेना के साथ खुद के गुंडे रखकर निहत्थे प्रोटेस्टर पर हमले कराता है, अनुराग यहीं नहीं रुके बल्कि आगे के वक्तव्य में अनुराग कश्यप ने गृह मंत्री को घटियेपन और नीचता की हद बताया, हालांकि विरोध का स्तर अभी भी कुछ ठीक था लेकिन आगे लिखते हुए अनुराग ने भारत के गृहमंत्री को जानवर संबोधित करते हुए लिखा"इतिहास थूकेगा इस जानवर पर "

हालांकि इस पर लोगों के पक्ष विपक्ष में तमाम प्रतिक्रियाएं आती रही, कुछ ने अनुराग के पक्ष में इसे सही बताया तो दूसरों ने इसे विरोध करने की शक्ति का गलत प्रयोग कहा, लेकिन हद तो तब हुई जब अनुराग ने लोगों के जोर देने पर अपने शब्दों को वापस लेने के बजाय इसमे शातिराना तरीके से कुछ बदलाव किए।

अनुराग कश्यप अपनी भड़ास निकालने के बाद यहीं नही रुके बल्कि उनकी विचारधारा से इतर सोच रखने वालों पर भी निशाना लगाया और उन्हें भक्त कहते हुए थूके हुए फोन को रुमाल से साफ करने की सलाह दे डाली।

हालांकि ये पहला मामला नही है, इससे पहले भी अनुराग कश्यप अपने वयानों और ट्विटर पर किये गए ट्वीट्स को लेकर सामने आये है, लोगो ने इस समय अनुराग को आड़े हाथ लिया है, क्योंकि लोगों के अनुसार जो अपनी फिल्मों को गाली गलौज का अड्डा बना देता हो उससे सैद्धांतिक विरोध की उम्मीद ही नहीं की जा सकती। हालांकि इस मामले पर अभी किसी नेतृत्व से प्रतिक्रिया नहीं आई है, लेकिन मामले को देखकर लगता है कि निकट भविष्य में गृहमंत्री के ऊपर अनर्गल बयानों की वजह से अनुराग पर मुकदमे दर्ज कराए जा सकते है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com