उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
ambulance Drivers strike in up
ambulance Drivers strike in up|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

थमा एम्बूलेंसों का पहिया, मरीजो की जान सांसत में

एक तो वैसे भी सरकारी अस्पतालों में इलाज कराना दूभर है, इसके साथ ही संविदा कर्मी एम्बूलेंस चालको और अटेंडेंस की हड़ताल ने इसमे कोढ़ और कोढ़ पर खाज जैसी स्थिति कर दी है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

पूरे उत्तर प्रदेश में पिछले दो दिन से संविदाकर्मियों की प्रदेशव्यापी हड़ताल जारी है जिसमे से स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े हुए 108 और 102 एम्बूलेंस सर्विस के चालक और सहायक भी शामिल है, और इस सेवा से जुड़े हुए लोगो ने पूरी तरह अपनी सेवाओं को ठप किया हुआ है, यही हालात उत्तर प्रदेश के जिले बाँदा में भी है, पूरा का पूरा जिला इस समय स्वास्थ्य सेवाओं से बुरी तरह प्रभावित है  एक ओर जिले में बहने वाली नदियों की बाढ़ का कहर जारी है वही  प्रदेश व्यापी हड़ताल ने जिले की स्थिति को बदतर बना दिया है, पूरे जिले में तैनात डायल 108 और 102 कि एम्बुलेंस बाँदा के पंडित जे एन डिग्री कालेज के मैदान में खड़ी कर दी गयी है, और प्रशासन की तरफ से कोई पहल नहीं की जा रही है।

क्यो हो रहा है विरोध:

निश्चितता और सहयोग, इस विरोध का मुख्य कारक है, विरोध करने वाले संविदा कर्मियों ने मीडिया को जानकारी दी है कि सरकार की कोई भी नीति हमारे हित में नही है, बल्कि हमारा शोषण किया जा रहा है, हमारा जॉब प्रोफाईल 24*7 का है, लेकिन हमें दी जाने वाली सुविधा का कोई नामो निशान नही है, वेतनमान भी आज की महंगाई में ऊंट के मुह में जीरे जैसा है , तथा साथ ही सरकार की नौकरी छीनो नीति से हमे अपने भविष्य की चिंता है, जिसके लिए कोई कारगर कदम न तो भारत सरकार के द्वारा उठाया जा रहा है न ही उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा।

हमारे समकक्ष कर्मचारियों के तुलना में हमे ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है और हमारे और औरों के मानदेय में बहुत बड़ा अंतर है।

ambulance Drivers strike in up
ambulance Drivers strike in up

बाँदा की स्थिति बेहद तकलीफ देह है:

पिछले कुछ दिनों  से बाँदा प्रकृति की मार झेल रहा है, यहां खेती किसानी करते किसानों के साथ विषदंश और ग्रामीण अंचलों में प्रसूताओं की समस्या आम है, जिनके लिए एम्बूलेंस सेवा जीवनदायिनी साबित हो रही थी, लेकिन अब यह हड़ताल होने की वजह से ,लोगो को समस्याओं से दो चार होना पड़ रहा है, यहां तक कि गर्भवती महिलाओं को मोटरसाइकिल पर लाने जैसी घटनाएं सामने आ रही है जिनके बीच रास्ते मे प्रसव हो रहा है।