अखिलेश यादव ने वैक्सीन लगाने को किया मना, कहा भाजपा की वैक्सीन कभी नही लगाई जा सकती

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उन्‍हें बीजेपी की वैक्‍सीन पर भरोसा नहीं है
अखिलेश यादव ने वैक्सीन लगाने को किया मना, कहा भाजपा की वैक्सीन कभी नही लगाई जा सकती
akhilesh yadav on corona vaccineUday Bulletin

राजनीतिक विरोध अगर विचारों तक सीमित रहे तभी ठीक रहता है, लेकिन अगर यही विरोध स्वास्थ्य जैसे मुद्दे पर निकल कर सामने आए तो राजनीति का घृणित चेहरा सामने आ जाता है। कोरोना के मामले पर सपा के मुखिया अखिलेश यादव ने कुछ ऐसी ही बात कही है।

दुनिया कराह रही, नेता जी वोट दुरुस्त करने में मस्त है:

इन दिनों सपा मुखिया अखिलेश यादव पुरानी सत्ता की कुर्सी को पाने के लिए हर प्रकार की जद्दोजहद में जुटे हुए है। कई बार तो वो अपने बयानों को देते वक्त यह मर्यादा भी भूल जाते है कि वह कभी देश के सबसे बड़े सूबे के मुख्यमंत्री भी रह चुके है।

मामला कोरोना के वैक्सीनेशन से जुड़ा हुआ है दरअसल एक ओर जहां केंद्र और प्रदेश सरकार देश प्रदेश में सभी लोगों के लिए कोरोना वैक्सीन लगाने की तैयारी में लगी हुई है वहीँ सपा के नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक बयान देकर राजनीतिक हलके में हलचल मचा दी है। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने अपने बयान में जोर देकर कहा कि वह भाजपा की वैक्सीन को नही लगवाएंगे।

क्या है विवादित बयान?

अपने बयान में अखिलेश याद साफ-साफ कहते हुए नजर आते है कि "देखिए मैं तो नही लगवाऊंगा ये वैक्सीन" वो भी बीजेपी की वैक्सीन का भरोसा करूँगा मैं? अरे जाओ भाई! अपनी सरकार आएगी तो सबको फ्री वैक्सीन लगेगी, हम भाजपा की वैक्सीन नहीं लगवा सकते।

असली बयान देखे:

सोशल मीडिया पर भद्द पिट गयी:

हालांकि नेता जी ने जो भी कहा था राजनीतिक मुद्दों को साधने के लिए कहा था लेकिन ये पब्लिक है सब जानती है। अपना निजी फायदा और नुकसान सब समझती है। लोगों ने अखिलेश यादव के इस बयान पर खासा हो हल्ला किया। लोगों ने अखिलेश यादव की शिक्षा और मानसिकता पर सवाल उठाते हुए सवाल दागे। लोगों ने कहा कि अखिलेश जी राजनीति से बढ़कर जान होती है इसलिए निजी फायदे के लिए लोगों को बरगलाना बंद कीजिए।

लोगों ने ले लिए मजे:

लोगों ने कहा कि सत्ता जाने के बाद नेता जी का विवेक भी गायब हो गया है

अखिलेश यादव के बयान पर लोगों ने कानूनी विकल्पों को भी तलाशने की बात कही। लोगों ने सरकार से अनुरोध किया है कि लोगों को बरगलाने, महामारी को लंबे समय तक रोकने के उद्देश्य से महामारी एक्ट के तहत कार्यवाही की जानी चाहिए।

हालांकि जब मामला पब्लिक डोमेन में आया तो पढ़े लिखे नेताजी को अपनी गलती का एहसास हुआ लेकिन अगर अपनी मूल बात से पलट जाते तो फिर नेतागिरी किस काम की। सो नेताजी ने अपने बयान का पटाक्षेप करते हुए नया रंग देने की कोशिश की। हालांकि मामला उतना साफ भी नही हो पाया जितना नेता जी चाहते थे।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा अफवाहों पर ध्यान न दें:

हालांकि अफवाहों को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डाक्टर हर्षवर्धन ने मीडिया को जानकारी देते हुए अपील भी की है कि सभी भारतीय किसी भी प्रकार की अफवाह पर ध्यान न दे, स्वास्थ्य मंत्री द्वारा पोलियो के टीकाकरण के दौरान उड़ाई गयी अफवाहों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उस वक्त इस वैक्सीन को लेकर भारी अफवाह उड़ाई गयी थी लेकिन उसी टीकाकरण की वजह से यह संभव हुआ है कि अब भारत मे पोलियो लगभग गायब हो चुका है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com