Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
नरेंद्र मोदी, योगी आदित्यनाथ, नितिन गडकरी 
नरेंद्र मोदी, योगी आदित्यनाथ, नितिन गडकरी |Uday Bulletin made with Adobe Spark
टॉप न्यूज़

नरेंद्र मोदी के बाद ये हैं बीजेपी से प्रधानमंत्री पद के लिए सबसे मजबूत दावेदार 

अगर भाजपा को 2019 लोकसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत नहीं मिलता है तो सहयोगी दल नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री बनाने की मांग कर सकते हैं

Abhishek

Abhishek

Summary

आज के टाइम में जनता में सबसे ज़्यादा लोकप्रिय नेता नरेंद्र मोदी ही हैं ! भाजपा में आज की तारीख़ में प्रधानमंत्री पद का कोई और दावेदार नहीं है पर समय बदलते देर नहीं लगती। 2019 लोकसभा चुनाव के बाद दूसरे दावेदार के लिए सवाल उठ सकता है क्योंकि भाजपा को दोबारा पूर्ण बहुमत मिलने की सम्भावना थोड़ी कम ही है।

2014 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश, बिहार,मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, हरियाणा, गुजरात से विपक्ष का लगभग सफ़ाया ही हो गया था पर इस बार ऐसा होना थोड़ा मुश्किल हो सकता है क्योंकि उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश ने गठवंधन कर लिया है और राहुल गाँधी ने 12000 रुपये प्रति माह का लॉलीपॉप बेरोजगार जनता को दिखाकर ब्लैकमेल कर लिया है | ऐसे में इन राज्यों में भाजपा को नुकसान होगा और इसकी भरपाई दूसरे राज्यों से करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होगा |

इस स्थित में भाजपा 185 से लेकर 215 सीटों में सिमट सकती है । यदि ऐसा होता है तो भी सरकार तो भाजपा की ही बनेगी पर सहयोगी दलों का पलड़ा भारी होगा |

ऐसे में भाजपा के सहयोगी दल शिवसेना, जनता दल यूनाइटेड आदि दल शायद कोशिश करें की नेता मोदी के बदले कोई और हो, साथ ही साथ बीजेडी, टीआरएस आदि भी सपोर्ट देने के लिए तैयार हो सकते हैं पर शायद अपने मुस्लिम वोटर से दिखावे के लिए मोदी को हटाने की माँग कर सकते हैं। मोदी को हटाने पर कोई आश्चर्य न हो अगर सही प्रलोभन मिले तो ममता और चंद्रबाबू नायडू भी तीसरे मोर्चे का साथ छोड़ एनडीए के साथ हो सकते हैं।

  • नितिन गड़करी

इस स्तिथी में भाजपा से सबसे बड़े दावेदार तो नितिन गड़करी ही हो सकते हैं क्योंकि एक तो नितिन गड़करी को संघ का पूर्ण समर्थन हासिल है और दूसरा गड़करी में सबको साथ लेकर चलने की क़ाबलियत भी है।इसमें कोई आश्चर्य भी न हो कि, नितिन गड़करी एक बेहतर और ज़्यादा दक्ष प्रधानमंत्री साबित हों क्योंकि गड़करी को काफ़ी अनुभव है और हमेशा अपने विभागों को अच्छा चलाने के लिए जाने जाते हैं। मराठी होने के कारण उन्हें शिवसेना का समर्थन भी मिल जाएगा और क्या पता शरद पवार भी साथ दे दें।

  • राजनाथ सिंह

दूसरा नम्बर शायद राजनाथ सिंह का हो सकता है पर सम्भावना कम ही है। यदि उत्तर प्रदेश से थोड़े ज़्यादा सांसद जीत कर आ जाएँ और अमित शाह भी गड़करी को नीचा दिखाने के लिए राजनाथ सिंह को समर्थन दे दें तो राजनाथ सिंह का प्रधानमंत्री बनने का सपना पूरा हो सकता है।शायद राजनाथ सिंह का प्रधानमंत्री बनने का यह आख़िरी अवसर हो तो, हो सकता है कि संघ के अनुशासित सिपाही होने के बावजूद मजबूर समर्थन मिलने पर आपस में ही भीड़ जायें। नितिन गड़करी की राह में सबसे बड़ा रोड़ा अमित शाह और नरेंद्र मोदी हैं जिसके कारण राजनाथ सिंह को फ़ायदा हो सकता है |

  • पीयूष गोयल

ये खानदानी संघी, नरेंद्र मोदी और शाह के नजदीकी, अच्छे परफ़ॉर्मर हैं इनकी दिक्कत ये है कि इनके चेहरे पर चुनाव नही जीता जा सकता, इनकी बिरादरी पहले से भाजपा की वोटर है तो ये अपनी तरफ से वोट बैंक में कुछ बढ़ोत्तरी कर नही पाएंगे, इलीट वर्ग का दिखना भी जनता से इन्हें दूर करता है।

  • योगी आदित्यनाथ

मास लीडर, हिंदूवादी चेहरा, कट्टर हिंदुत्व के एजेंडे पर सबसे फिट उत्तर प्रदेश से आते हैं जो सबसे अधिक राजनीतिक महत्व रखता है। इनका भविष्य उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के तौर पर इनके प्रदर्शन से तय होगा, यदि यहां इन्होंने परफॉर्म किया तो इनकी दावेदारी सबसे सशक्त होगी। लेकिन बहुत सारे कथित “पढ़े-लिखे धर्मनिरपेक्ष लॉबी” उन्हें पसंद नहीं करते हैं।