Sonu Sood
Sonu Sood|Google image
टॉप न्यूज़

सोनू सूद का जवाब ही नहीं, एक पुकार पर मदद के लिए हाँथ बढ़ाया

सोनू सूद लोगों की मदद करने की संस्था बन चुके हैं, बस गुहार लगाने भर की देर है हाथों हाथ मदद मिलती है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

आज के वक्त में सोनू सूद मतलब मदद का मिलना तय, फिर चाहे कोरोना काल मे महानगरों में फसे हुए मजदूरों को उनके घर तक पहुँचाना हो या विदेशों में फंसे लोगों को भारत लाना या फिर हल जोतती हुई बच्चियों के लिए ट्रैक्टर पहुँचाना, सोनू सूद हर मामले में लोगों की मदद के लिए आगे बढ़कर आये हैं। ताजा मामला एक एथलीट से जुड़ा हुआ है।

खिलाड़ी से कहा अगले हफ्ते सर्जरी होगी तैयार रहो:

देश का एक बेहतरीन एथलीट जिसने देश के लिए अपना पसीना बहाया वो आज सरकारी उपेक्षा के चलते खून के आंसू रो रहा था। दरअसल बिहार के जमुई जिले से आने वाले एथलीट सुदामा यादव जेवलिन थ्रो के जाने माने खिलाड़ी है और देश मे होने वाली तमाम प्रतियोगिताओं में अपना जौहर दिखा चुके हैं। सुदामा यादव पिछले साल हांगकांग में आयोजित थर्ड यूथ एशियन चैंपियनशिप में अंडर 18 आयु वर्ग की श्रेणी में भारत की तरफ से खेलने गए हुए थे जहां उन्हें खेलने से पहले वार्म अप (किसी भी खेल को खेलने से पहले खिलाड़ी शरीर को एक्टिव रखने के लिए तैयारी करते है) करते समय घुटने में चोट लग गयी। इसी वजह से वह उस वक्त वह अपना कोई प्रदर्शन नहीं कर सके।

ज्ञात हो कि यह चैंपियनशिप 13 से 17 मार्च तक चली थी, उसके बाद भारत लौटने के बाद सुदामा की तकलीफ बढ़ती रही और घुटने का कोई समुचित इलाज नहीं हो पाया। साथ ही खेल एसोसिएशन की मक्कारी की वजह से उभरते हुए एथलीट को अलग-थलग कर दिया गया।

जब सुदामा ने अभिनेता और अब समाजसेवी सोनू सूद की दरियादिली को सुना, हालांकि उन्हें एक अदने से आदमी की मदद की उम्मीद न होने के बावजूद भी सोनू से मदद की गुहार दूसरे व्यक्ति प्रभात लाल यादव के ट्विटर एकाउंट से लगाई और जैसा कि सोनू अपने काम के लिए जाने जाते है उन्होंने बिना कोई वक्त गवाएं लिखा "देश का गौरव है सुदामा, मैडल लेने की तैयारी करो भाई, अगले हफ्ते सर्जरी करेंगे।

पहले भी कर चुके है मदद:

ऐसा नहीं है कि सोनू का नाम पहली बार ही चमका है सोनू लगभग हर मदद को मज़ेदार तरीके से करने के लिए जाने जाते है फिर चाहे किसान की बेटियों के लिए ट्रैक्टर की व्यवस्था कराना हो या किसान की गाय वापस कराना, सोनू सूद वास्तव में मदद का दूसरा नाम बनते जा रहे है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com