उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Kamlesh Tiwari Murder
Kamlesh Tiwari Murder|Google
टॉप न्यूज़

कमलेश हत्याकांड के दोनो आरोपी गुजरात- राजस्थान बॉर्डर पर धरे गए, गुजरात एटीएस को मिली सफलता

आरोपियों को पकड़ा गुजरात एटीएस ने, लेकिन यूपी पुलिस खुद की पीठ थपथपा रही।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

कमलेश हत्याकांड के दोनो आरोपी अशफाक और मोइनुद्दीन लखनऊ से हत्या को अंजाम देने के बाद बरेली के  रास्ते नेपाल निकलने के चक्कर मे थे हालाँकि यूपी पुलिस की मुस्तैदी को देखकर उन्होंने नेपाल जाने का विचार ही त्याग दिया और गुजरात- राजस्थान बॉर्डर पर गुजरात एटीएस के हत्थे चढ़ गए

हत्या के चार दिन के बाद आखिरकार गुजरात पुलिस को सफलता मिली, गुजरात एटीएस ने इनके पैटर्न पर पहले से ही नजर रखते हुए इनकी घेराबंदी दूर रहकर की जिसका फायदा गुजरात एटीएस को मिला, हालांकि उत्तर प्रदेश पुलिस अब राहत की सांस लेने का प्रयास कर रही है क्योंकि अगर ये आरोपी जल्द ही नहीं पकड़े जाते तो पुलिस की छीछालेदर होना तय था।

नेपाल जाने की थी तैयारी :

कमलेश तिवारी हत्याकांड के बाद आरोपियों ने सबसे पहले बरेली का रुख किया था, जहाँ एक स्थानीय मौलाना ने इनकी रुकने खाने की व्यवस्था भी की, उत्तर प्रदेश पुलिस इनके फुट प्रिंट्स को ट्रैक करके चल रही थी, और जब पुलिस को यह जानकारी मिली कि आरोपी नेपाल निकलने की फिराक में है तो पुलिस ने नेपाल जाने के रास्तो पर कड़ा पहरा बिठा दिया , नतीजन आरोपियों ने नेपाल जाने का विचार त्याग दिया और बरेली से निकलकर गुजरात -राजस्थान बॉर्डर का रुख किया।

गुजरात एटीएस दबे पांव शिकार को निकली :

एक ओर जहां उत्तर प्रदेश पुलिस लाव लश्कर के साथ हो हल्ला मचाये पड़ी थी वहीँ गुजरात एटीएस बेहद साइलेंट से इन आरोपियों की गतिविधियों पर कड़ी नजर रख रही थी, एटीएस के अनुसार उसने दूर बैठकर इनके पैटर्न पर नजर रखी, उत्तर प्रदेश पुलिस जंगल मे शिकारियों जैसे हांका तो लगा ही रही थी, और गुजरात एटीएस ने चुपके से जाल बिछाने का काम किया, नतीजन दोनो आरोपी देर शाम गुजरात एटीएस के हत्थे चढ़ गए।

उत्तर प्रदेश पुलिस या तो अंधेरे में तीर चलाती रही, या आरोपियों के चक्रव्यूह में फस गयी थी :

आरोपी उत्तर प्रदेश पुलिस से हत्या के बाद से ही एक कदम आगे थी, आरोपियों ने यूपी पुलिस को स्थानीय जांच में इतना उलझा दिया कि आरोपियों को भागने का मौका मिल सके, नतीजा यह हुआ कि आरोपी जिस जगह से निकल भागते थे पुलिस बाद में वहाँ पहुच पाती थी, सूत्रों के अनुसार बरेली में मौलाना के यहाँ पुलिस तब पहुची जब आरोपी वहाँ से नौ दो ग्यारह हो चुके थे, उत्तर प्रदेश सरकार ने इन दोनों आरोपियों पर ढाई लाख रुपये का इनाम भी रखा हुआ था।

हालाँकि अब यूपी पुलिस अपनी पीठ खुद थपथपाती नजर आ रही है जिसका असर ट्विटर पर झलक रहा है:-

आरोपियों को लाया जाएगा उत्तर प्रदेश :

हालांकि इस हत्या के मास्टरमाइंड पहले से ही यूपी पुलिस के पास है जिन्होंने हत्या का मोटिव पहले ही बता दिया है, लेकिन असल हत्या का मकसद जानने, और सारी गतिविधियों को समझने के लिए गुजरात एटीएस आरोपियों को यूपी पुलिस को सौपेगी, इस बाबत यूपी पुलिस ने ट्वीट करके जानकारी भी दी है।