मुस्लिम युवक ने दलित युवती के मुँह में कपड़ा ठूसकर किया दुष्कर्म, जान से मारने की दी धमकी

राजस्थान के अजमेर में एक दलित समुदाय की बेटी को लगातार आठ घंटे तक यातना देने का मामला सामने आया है, इस मामले में मुख्य आरोप एक मुस्लिम समुदाय के व्यक्ति टीपू सुल्तान पर पर लगाया गया है
मुस्लिम युवक ने दलित युवती के मुँह में कपड़ा ठूसकर किया दुष्कर्म, जान से मारने की दी धमकी
अजमेर रामगंज रेप केसGoogle Image

राजस्थान के अजमेर में एक दलित महिला के साथ रेप का मामला सामने आया है। अजमेर पुलिस मामले की रिपोर्ट दर्ज कर अब आरोपी युवक की तलाश शुरू कर दी है।

माँ के घर जाती बेटी के साथ दुष्कर्म:

मामला बीते मंगलवार 29 सितंबर का है जहाँ पर अजमेर के रामगंज में अपनी माँ के घर जाती हुई बेटी के साथ हुई दरिंदगी सामने आयी है गौरतलब हो कि बीते मंगलवार युवती अपनी माँ के घर रामगंज जा रही थी जहाँ पर रास्ते मे खड़े हुए मुख्य आरोपी टीपू सुल्तान के द्वारा बहला फुसला कर खेतों में ले जाया गया और खेतों में ही अन्य दो साथियों की सहायता से करीब आठ घंटे तक दरिंदगी बरती गई।

आरोपित युवकों ने युवती को लगातार आठ घंटे तक मुँह में कपड़ा ठूस कर दरिंदगी को अंजाम दिया और रात के करीब एक बजे पीड़िता के घर तक यह धमकी देते हुए छोड़ा गया कि अगर वह इस मामले की शिकायत पुलिस में करती है तो उसे भयानक परिणाम भुगतने होंगे।

टालमटोल के बाद दर्ज हुई एफआईआर:

युवती ने घर पहुंचकर अपनी माँ से हुए इस हादसे के बारे में सारी बातें बतायी और आरोपी द्वारा धमकी का भी जिक्र किया। इस पर पीड़िता के भाई और माँ ने इस मामले में शिकायत पुलिस में करने की बात कही, काफी जद्दोजहद के बाद राजस्थान पुलिस के थाने रामगंज ने इस मामले की प्राथमिकी दर्ज की और कार्यवाही करने की बात कही। इस मामले में स्थानीय पुलिस ने बालात्कार की धाराओं समेत एससी, एसटी की सुसंगत धाराओं के तहत कार्यवाही करने की बात कही है।

एफआईआर में हुई मुश्किल:

चूंकि मामला दूसरे समुदाय से जुड़ा हुआ था और एफआईआर करने की वजह से राजनीतिक समीकरण बिगड़ सकते थे शायद यही कारण है कि पुलिस ने एफआईआर न करने के तमाम फायदे गिनाए, पीड़िता से खुद पुलिस ने इज्जत उछलने और नाम खराब होने की दलीलें देकर एफआईआर को न लिखाने की बाते कही। हालांकि समाजिक दबाव के आगे पुलिस को झुकना पड़ा और एफआईआर दर्ज करके आरोपियों को गिरफ्तार करने की बात कही, मामले की जांच रामगंज थाने के थानाध्यक्ष मुकेश सोनी द्वारा की जा रही है, खबर लिखे जाने तक सभी आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर है।

बीते दिनों में राजस्थान के अजमेर में दो अन्य रेप के मामले सामने आए है लेकिन सरकार के दबाव की वजह से इन मामलों को तूल नहीं मिल पा रहा है।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com