उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
प्रधानमंत्री मोदी 
प्रधानमंत्री मोदी |गूगल फोटो 
टॉप न्यूज़

EPFO ने जारी किये आंकड़े, फेल हुयी मोदी सरकार की रोजगार नीति 

2 करोड़ रोजगार का वादा कर मोदी सरकार पिछले13 महीनों में कुल 79.48 लाख रोजगार दे पाई है | 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: EPFO द्वारा जारी के गए आंकड़ों के अनुसार इस साल सितंबर में 9.73 लाख लोगों को रोजगार दिया गया। यह संख्या सितंबर 2017 के बाद किसी एक माह में दिये गये रोजगार में सबसे ज्यादा है। 2017 में अगर देखा जाये तो एक पिछले साल सितंबर महीने में 4.11 लाख लोगों को काम पर रखा गया था।

भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) द्वारा वेतन रजिस्टर पर जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। EPFO ( ईपीएफओ ) के सितंबर 2017 से सितंबर 2018 की 13 माह की अवधि के जारी आंकड़ों के मुताबिक इस दौरान कुल 79.48 लाख लोगों को भविष्य निधि सामाजिक सुरक्षा योजना के साथ जोड़ा गया। इससे यह पता चलता है कि इस दौरान 79.48 लाख लोगों को रोजगार मिला।

अगर इस साल के मार्च महीने को देखा जाये तो केवल 2.36 लाख लोगों को ही ईपीएफओ योजना में शामिल किया गया। यह संख्या इन 13 माह में सबसे कम रही। सितंबर महीने में ईपीएफओ की भविष्य निधि योजना में जुड़ने वाले 2.69 लाख लोग 18 से 21 साल की आयु वर्ग के रहे जबकि 2.67 लाख 22 से 25 वर्ष की आयु वर्ग के रहे। ईपीएफओ ने एक वक्तव्य जारी कर कहा है कि ये आंकड़े अनंतिम हैं। कर्मचारियों का रिकार्ड लगातार अद्यतन होता रहता है। आने वाले महीनों में यह आंकड़े और बेहतर हो सकते हैं।

आपको बता दें कि, केंद्र की मोदी सरकार दावा करती है कि देश में हर साल 2 करोड़ लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। चुनावी घोसणा पत्र हो या कोई जन सभा प्रधानमंत्री ने हर मौके पर दावा किया है की उनकी सरकार प्रतिवर्ष 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने में समर्थ है। लेकिन EPFO द्वारा जारी आंकड़े के अनुसार केंद्र द्वारा किये गए वादे महज जुमले प्रतीत होते हैं।

भाषा