उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Todays Top 5 News
Todays Top 5 News|Uday Bulletin

आज की पांच बड़ी खबरें: क्या हुआ अहमद पटेल के बेटे को ? हवाईअड्डों पर बॉडी स्कैनर्स, दलित छात्रों को अलग बैठकर भोजन कराया !

Faisal Patel
Faisal Patel
IANS

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के बेटे फैसल पटेल गुजरात स्थित स्टर्लिग बायोटेक द्वारा करोड़ों की बैंक धोखाधड़ी और मनी-लॉन्ड्रिंग के कथित मामले में गुरुवार को पूछताछ के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के कार्यालय पहुंचे। ईडी ने बुधवार को मामले में अपनी जांच के लिए कांग्रेस के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल के बेटे फैसल पटेल को तलब किया था।

फैसल पटेल से वडोदरा स्थित फार्मास्यूटिकल फर्म के मालिकों और प्रमोटर्स, संदेसरा ब्रदर्स (चेतन जयंतीलाल संदेसरा और नितिन जयंतीलाल संदेसरा) के साथ उनके कथित संबंधों के लिए पूछताछ की जाएगी। मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट की धाराओं के तहत उनके बयानों को रिकार्ड किया जाएगा।

वित्तीय जांच एजेंसी ने 30 जुलाई को जांच के सिलसिले में अहमद पटेल के दामाद और वकील इरफान सिद्दीकी को भी दोषी ठहराया था।

ईडी के अधिकारियों के अनुसार, संदेसरा ग्रुप के एक कर्मचारी सुनील यादव ने कथित तौर पर आरोप लगाया है कि चेतन संदेसरा ने सिद्दीकी और फैजल पटेल को कथित रूप से कोड नाम दिए हुए थे।

एजेंसी को दिए अपने बयान में यादव ने कहा, "चेतन और गगन ने सिद्दीकी को इरफान भाई बताया। इरफान का कोड नेम 'आई2' और फैसल को कोड नेम 'आई1' था।"

यादव ने यह भी कहा कि फैसल पटेल अपने दोस्तों को पुष्पांजलि फार्म्स में पार्टी करने के लिए ले जाते थे, जिसका सारा खर्च चेतन संदेसरा द्वारा वहन किया जाता था।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई ) ने 5,700 करोड़ रुपये के कथित बैंक धोखाधड़ी के मामले में संदेसरा ब्रदर्स के खिलाफ केस दर्ज किया था। इसके बाद अगस्त 2017 में ईडी ने संदेसरा ब्रदर्स के खिलाफ मनी-लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया।

जम्मू एवं कश्मीर : फेसबुक पर 'संवेदनशील टिप्पणी' को लेकर 5 नामजद

Facebook
Facebook
IANS

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने राजौरी और पुंछ जिलों के पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। आरोप है कि उन्होंने फेसबुक पर 'संवेदनशील टिप्पणी' पोस्ट की थी, जिससे राज्य में कानून और व्यवस्था की हालत बिगड़ सकती है। राजौरी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक युगल मानहंस ने गुरुवार को कहा कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों की नियमित निगरानी के दौरान, राजौरी पुलिस की नजर पांच फेसबुक अकाउंट्स पर पड़ी, जिन पर लगातार संवेदनशील अपडेट किए जा रहे थे। इनमें कुछ अपडेट 'शांति और व्यवस्था के लिए गंभीर खतरा बन सकते हैं।'

पुलिस ने कहा कि आरोपी राजौरी और पुंछ जिले के मूल निवासी हैं, लेकिन वे जम्मू एवं कश्मीर के बाहर काम करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

उन पांचों लोगों की पहचान राजौरी के रहने वाले जहीर चौधरी कलास, पुंछ निवासी जाकिर शाह बुखारी, राजौरी के मंजकोते निवासी इमरान काजी, पुंछ के रहने वाले नाजीक हुसैन (काजी नजीक) और मेंधर, पुंछ के सरदार तारिक खान के रूप में हुई है।

पुलिस ने राजौरी पुलिस स्टेशन में आईटी अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है और पांचों के खिलाफ जांच शुरू कर दी है।

मन्हास ने कहा कि उनके पासपोर्ट रद्द करने की प्रक्रिया जल्द शुरू की जाएगी। इसके अलावा उन्होंने लोगों से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का उपयोग सावधानीपूर्वक और सकारात्मक तरीके से करने की भी अपील की।

उन्होंने चेतावनी दी कि जो लोग "अफवाहें और फर्जी पोस्ट फैलाकर शांति भंग करने और जनता को भड़काने का प्रयास करेंगे, उनके साथ कानून के तहत सख्ती से निपटा जाएगा और उनपर कड़ी कार्रवाई शुरू की जाएगी।"

उन्होंने विदेश में काम करने वालों से भी अपील की कि वे ऐसे कार्यो में शामिल न हों, जिससे उन्हें कड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़े।

सभी हवाईअड्डों पर दो सालों में होंगे बॉडी स्कैनर्स

AIrport
AIrport
IANS

देश के सभी हवाईअड्डों पर अगले दो सालों में बॉडी स्कैनर्स लगा दिए जाएंगे। एक वरिष्ठ अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी। ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्यूरिटी (बीसीएएस) ने सभी हवाई अड्डों पर बॉडी स्कैनर्स लगाना अनिवार्य कर दिया है।

गौरतलब है कि हवाई अड्डों पर वर्तमान में जो उपकरण लगे हैं, वे गैर-धातु विस्फोटकों का पता लगाने में सक्षम नहीं है।

दलित छात्रों को अलग बैठकर भोजन कराने पर सख्त कार्रवाई करे सरकार : मायावती

BSP Supremo Mayawati
BSP Supremo Mayawati
IANS

उत्तरप्रदेश के बलिया जिले के सरकारी स्कूल में दलित छात्रों को अलग बैठकार भोजन कराने पर राज्य सरकार से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सख्त काूननी कार्रवाई की मांग की है। मायावती ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, "यूपी के बलिया जिले के सरकारी स्कूल में दलित छात्रों को अलग बैठाकर भोजन कराने की खबर अति-दु:खद व अति-निंदनीय।"

उन्होंने कहा, "बसपा की मांग है कि ऐसे घिनौने जातिवादी भेदभाव के दोषियों के खिलाफ राज्य सरकार तुरंत सख्त कानूनी कार्रवाई करे, ताकि दूसरों को इससे सबक मिले व इसकी पुनरावृति न हो।"

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर में मिड डे मील के दौरान बच्चों को नमक-रोटी परोसने के मामले के बाद, बलिया में कुछ बच्चों को पत्तल पर भोजन देने की बात सामने आई थी। इन बातों को लेकर हो रहे हंगामे के बीच अब बलिया में ही कुछ बच्चों के अलग बैठकर घर से लाई गई थालियों में मिड डे मील खाने का मामला सामने आया है।

स्कूल के कुछ बच्चे अपने घरों से थालियां ला रहे हैं और एससी-एसटी बच्चों से अलग बैठकर मिड डे मील खा रहे हैं। बलिया के रामपुर प्राइमरी स्कूल में कुछ बच्चे छुआछूत की वजह से अलग थालियों में खाना खा रहे हैं।

इस मामले में स्कूल के प्रधानाचार्य पी गुप्ता ने कहा, "हम बच्चों को बहुत समझाते हैं कि सभी लोग एक साथ बैठकर ही भोजन करें। लेकिन हमारे हटते ही बच्चे अलग-अलग हो जाते हैं। हम छात्रों को समझाने का प्रयास कर रहें हैं।"

बिहार के युवकों को कश्मीरी लड़कियों से विवाह करना पड़ा महंगा, हुए गिरफ्तार

Two People Arrested From Supaul
Two People Arrested From Supaul
Google

बिहार के सुपौल जिले के राघोपुर थाना क्षेत्र से जम्मू एवं कश्मीर से कथित तौर पर भगाकर लाई गईं दो सगी बहनों को कश्मीर पुलिस ने सुपौल पुलिस की मदद से बरामद किया है। इस सिलसिले में दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तार युवकों का कहना है कि उन्होंने इन लड़कियों से विवाह किया है। पुलिस के एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि सुपौल जिले के रामविशुनपुर गांव निवासी परवेज आलम और तबरेज आलम को कश्मीर से लड़की भगाने के आरोप में बुधवार को गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस के मुताबिक, परवेज और तवरेज दोनों सगे भाई कश्मीर के रामवन में राजमिस्त्री का काम करते थे। वहीं उन्हें सगी बहनों को प्यार हो गया। ये दोनों भाई उन दोनों बहनों को लेकर राघोपुर थाना क्षेत्र के रामविशनपुर स्थित अपने घर ले आए। इस बीच, कश्मीर में लड़की के पिता ने पुलिस थाने में बेटियों को भगा ले जाने की प्राथमिकी दर्ज कराई।

सुपौल के पुलिस उपाधीक्षक विद्यासागर ने गुरुवार को बताया कि मामले की जांच के दौरान कश्मीर पुलिस यहां आई और दोनों लड़कियों को बरामद कर तबरेज और परवेज को गिरफ्तार कर लिया। कश्मीर पुलिस कानूनी कागजी कार्रवाई करने के बाद दोनों गिरफ्तार युवकों को अपने साथ कश्मीर ले गई।

उन्होंने बताया कि आरोपियों का कहना है कि उन्होंने रजामंदी से लड़कियों से विवाह किया है।