उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
When woman left Banda DM ashamed
When woman left Banda DM ashamed|IANS
टॉप न्यूज़

आशा बहू के सवाल पर बाँदा के डीएम हुए शर्मशार।

Abhishek

Abhishek

उत्तर प्रदेश में बांदा के जिलाधिकारी को उस समय शर्मसार होना पड़ा, जब आशा बहुओं के सम्मेलन में एक आशा बहू ने खचाखच भरे सभागार में प्लास्टिक के थैले बांटे जाने पर सवाल खड़ा कर दिया।

यह घटना मंगलवार को राजकीय मेडिकल कॉलेज के सभागार में घटी। यहां स्वास्थ्य विभाग की ओर से आशा बहुओं का सम्मेलन आयोजित किया गया था।

जिलाधिकारी बांदा अपने संबोधन में महिलाओं से प्लास्टिक की थैली या उससे बनी अन्य वस्तुएं न उपयोग करने की अपील कर रहे थे। इसी बीच अमारा गांव की आशा बहू शकुंतला ने सम्मेलन में ही बांटे गए प्लास्टिक के थैले को लहराते हुए उनसे सवाल दाग दिया कि जब प्लास्टिक से परहेज करना है तो फिर आपने यहां प्लास्टिक के थैले क्यों बंटवाए हैं?

महिला के इस सवाल से असहज जिलाधिकारी कुछ देर तक बेजुबान बने रहे। इसके बाद उन्होंने महिला को मंच पर बुलाया और कहा, "मैं इस महिला की हिम्मत को दाद देता हूं। कम से कम इसने एक जिलाधिकारी को टोंकने की हिम्मत दिखाई।" जिलाधिकारी ने वहां मौजूद मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) को दोबारा से जूट के थैले बंटवाने के निर्देश दिए।

बाद में जिलाधिकारी हीरालाल ने मीडिया से कहा, "कम से कम महिलाएं अब इतना तो सशक्त हो ही गई हैं कि जिलाधिकारी से भी सवाल कर सकती हैं और उन्हें टोंक सकती हैं।"

कार्यक्रम समापन के बाद डीएम को खचाखच भरे सभागार में शर्मसार करने वाली आशा बहू शकुंतला भी मीडिया से मुखातिब हुई और एक सवाल के जवाब में उसने कहा, "जब जिलाधिकारी प्लास्टिक का उपयोग पूर्णतया बन्द करने की बात कह रहे थे, तब अपने हाथ में प्लास्टिक का थैला देख अचानक टोंकने की हिम्मत आ गई थी। लेकिन अब डर लग रहा है कि खिसिया कर जिलाधिकारी बर्खास्त न करवा दें।"