उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
बेटे कार्ति चिदंबरम के साथ पी चिदंबरम
बेटे कार्ति चिदंबरम के साथ पी चिदंबरम|Social Media
टॉप न्यूज़

पुत्र मोह में धृतराष्ट्र बने पी चिदंबरम अब सीबीआई की गिरफ्त में ! 

INX मीडिया केस में गिरफ्तार हुए हैं पी चिदंबरम !

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

  • हर 48 घंटे में होगा मेडिकल चेकअप
  • चार दिन बाद 30 अगस्त को फिर से अदालत में पेश होंगे चिदंबरम
  • ED के पास पी चिदंबरम के खिलाफ कोई सबूत नहीं
  • हर दिन परिवार से मिल सकेंगे चिदंबरम

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के कद्दावर नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम इन दिनों INX मीडिया केस मामले को लेकर सीबीआई के शिकंजे में हैं। आज चिदंबरम ने दिल्ली हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका दायर की जिसपर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने इसे ख़ारिज कर दिया, जिसके बाद सीबीआई की तरफ से कहा गया कि चिदंबरम हमारे सवालों का ठीक-ठीक जवाब नहीं दे रहे हैं, हम दूसरे आरोपियों के साथ चिदंबरम का आमना-सामना करना चाहते हैं, इसलिए चिदंबरम की हिरासत अवधि पांच दिन और बढ़ा दी जाये। दिल्ली हाई कोर्ट से राहत नहीं मिलने के बाद चिदंबरम राउज एवेन्यू कोर्ट पहुंचे और वहां दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी।

सुनवाई के दौरान राउज एवेन्यू कोर्ट ने सीबीआई से पूछा कि बीते चार दिन से चिदंबरम आपकी हिरासत में हैं आपने क्या क्या सवाल किये ? जिसपर सीबीआई की तरफ से वकील तुषार मेहता ने कहा कि हमनें उन्हें जरुरी दस्तावेज दिखाए हैं, ED भी जांच कर रही है, सारे दस्तावेज कोर्ट में पेश किए गए हैं। ED अन्य सुराग की तलाश कर रही है। जिसपर चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि अगर सीबीआई चिदंबरम को हिरासत में रखना चाहती है तो उसे सबूत देने होंगे।

जिसके बाद दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने पूर्व वित्त मंत्री को एक और बड़ा झटका देते हुए 4 दिनों के लिए उनकी रिमांड बढ़ा दी। चिदंबरम अब 30 अगस्त तक सीबीआई की हिरासत में रहेंगे।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि अगर चिदंबरम के वकील और परिवार वाले उनसे मिलना चाहें तो हर दिन उन्हें आधे घंटे का समय दिया जायेगा। इसके अलावा हर 48 घंटे के बाद उनका मेडिकल चेकअप होगा।

किन दो मामलों में फंसे हैं पी. चिदंबरम

INX मीडिया केस

इन्द्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी के स्वामित्व वाली INX मीडिया केस मामले में पी. चिदंबरम को आरोपी करार दिया गया है। इस कंपनी पर आरोप है कि इसने FIPB (Foreign Investment Promotion Board) के तहत 305 करोड़ रूपये के विदेश निवेश किये। लेकिन कंपनी ने अपना न्यूज़ चैनल खोलने में महज कुल निवेश का 26 फीसदी खर्च किया। चिदंबरम ने वित्त मंत्री रहे हुए INX मीडिया को विदेशी निवेश की मंजूरी दी थी। कपंनी पर आरोप है कि वित्त मंत्रालय द्वारा उसे सिर्फ 4.62 करोड़ रूपये के निवेश की मंजूरी दी गई थी जबकि कंपनी में 305 करोड़ रूपये निवेश हुए और यह कंपनी भी कभी नहीं खुल सकी।जिसके बाद इन्द्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी के घर आयकर की छापेमारी हुई, जिससे बचने के लिए INX मीडिया पी चिदंबरम के बेटे कृति चिदंबरम के स्वामित्व वाली कंपनी ‘चेस ग्लोबल एडवाईज़री सर्विसेस’ के पास पहुंची। कार्ति चिदंबरम ने उन्हें इस मामले से उस समय बचा तो लिया लेकिन उसके एवज में साढ़े तीन करोड़ रूपये की कथित घूंस ली। यह सारा मामला कथित तौर पर पी. चिदंबरम की देख-रेख में हुआ था।

एयरसेल मैक्सिस डील

एयरसेल मैक्सिस डील यह दूसरा मामला है जिसपर पी. चिदंबरम ED और सीबीआई की नज़र में हैं। यह मामला साल 2006 में शुरू हुआ था जब पी. चिदंबरम वित्त मंत्री थे, मैक्सिस नाम की एक विदेशी कंपनी ने एयरसेल में FIPB (Foreign Investment Promotion Board) के जरिए 3200 करोड़ रूपये का विदेशी निवेश किया था, जबकि वित्त मंत्रालय की तरफ से 600 करोड़ रूपये के निवेश की ही मंजूरी दी गई थी। यह मामला जब वित्त मंत्रालय की नज़र में आया तो चिदंबरम ने इसपर धांधली करते हुए आकड़ों के साथ खेल खेल दिया। 3200 करोड़ रूपये की जगह चार्जशीट में सिर्फ 180 करोड़ रूपये दिखाए गए। चिदंबरम के बेटे की ‘चेस ग्लोबल एडवाईज़री सर्विसेस’ फर्म ने इस मामले में भी मोटी कमाई की। इस मामले में सीबीआई अभी जांच कर रही है। इस मामले को लेकर बीजेपी नेता सुब्रहमण्यम स्वामी कई बार चिदंबरम और उनके बेटे पर आरोप लगा चुके हैं।