उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Illegal Sand Mining in Banda
Illegal Sand Mining in Banda|Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

ग्राउंड रिपोर्ट: योगी राज में मप्र बॉर्डर के नजदीक गाँव मे रेत माफिया का नंगानाच 

सत्ताधारी पार्टी के नेताओं के भाई-भतीजे और देश के बड़े अफसरों के भाई-भतीजे रसूख के दम पर मनमानी करने में जुटे, प्रशासन लाचार 

Ankit Kumar

Ankit Kumar

Summary

कहने को तो मोदी और योगी “न खाएंगे और न खाने देंगे” की नीति पर काम कर रहे हैं लेकिन बाँदा जिले के मटौन्ध ग्रामीण का वह गांव लोहरा, जहाँ मध्य प्रदेश की सीमा मिलती है वहां कुछ बेहद रसूखदार और ताकतवर लोगों ने अपना तांडव मचा रखा है, सैकड़ो की तादाद में रेत से भरे ट्रक सड़क पर चक्का जाम किये हुए हैं, और लोगो का जीना मुहाल कर रखा है।

मामला अवैध रेत खनन से संबंधित है, दरअसल यह गांव उत्तर प्रदेश की सीमा का आखिरी गांव है, इसके बाद से मध्य प्रदेश का पहरा गांव पड़ता है, और दोनों प्रदेशों के घुमावदार क्षेत्र में केन नदी पड़ती है, और इसी मौके का फायदा लेने के लिए तमाम रेत तस्कर अब एक साथ मिलकर काम कर रहे है, बरसात के मौसम में जब सरकार रेत निकालने वाले सभी घाट और खदान बंद कर देती है तब इन माफियाओं ने प्रदेश को महंगे रेट पर तस्करी रेत(बालू) बेचने के लिए अवैध तरीके से रेत मध्य प्रदेश से खनन करवा कर ग्राम लोहरा और इसके आस पास के गांव इटवा इत्यादि में डंप करने का प्लान बना रखा है।

दिन दहाड़े सड़को पर अर्थ मूवर दौड़ाई जाती है ,जिसकी वजह से सड़कें सड़क न रहकर दुर्घटना का सबब बन गयी है, अभी हाल में ही मध्य प्रदेश के कुछ व्यक्ति किसी बेहद गंभीर बीमार व्यक्ति को लेकर कानपुर की तरफ जाना चाह रहे थे लेकिन रास्ते मे फॅसे ओवरलोड ट्रकों की वजह से उन्हें रात भर फंसे रहना पड़ा क्योंकि वो उस रास्ते से वापस भी नही लौट पाए..

Illegal Sand Mining
Illegal Sand Mining
Illegal Sand Mining

बंदूकों के साये में होता अबैध खनन:

इस तरह के कार्य को शुरू करने से पहले इन माफिया ग्रुप ने सबसे पहले कुछ स्थानीय लोगों को पैसे देकर उनकी जमीन ली और उन्हें विश्वास में लिया फिर अवैध तरीके से डंप और रास्तो का निर्माण कर के स्थानीय आवागमन को पूरी तरह बाधित कर रखा है, लेकिन बेहद रसूखदार होने की वजह से किसी भी व्यक्ति में उनके खिलाफ बोलने की हिम्मत नहीं है, हर वक्त करीब आधा सैकड़ा हथियार बंद लोगो का साया मौजूद होता है।

बड़े सफेदपोश और नौकरशाहों के हाँथ है इसमे:

दरअसल इस काम को बेहद दबंगई के साथ अंजाम दिया जा रहा है, इस काम मे बड़े नौकरशाहों और राजनेताओं के भाई-भतीजे इत्यादि शामिल हैं, अगर सरकार इस मामले की जांच कराती है तो कई लोग ग़ैरकानूनी मामले में फंसे मिलेंगे।

पुलिस खुद उनकी हिफाजत में:

गौर करें कि थाना कोतवाली मटौन्ध इस जगह से मात्र आठ किमी की दूरी पर है , लेकिन मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की पुलिस और खनिज अधिकारियों की मिली भगत से यह भृष्टाचार कोढ़ की तरफ फैल रहा है, देखते है कड़ाई के लिए जानी-मानी योगी सरकार कब इस घटना पर नजर डालती है।