उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
जवानों के साथ मनाया गया रक्षा बंधन का त्यौहार 
जवानों के साथ मनाया गया रक्षा बंधन का त्यौहार |Social Media
टॉप न्यूज़

रक्षा बंधन के पहले ही असली रक्षकों को टीका लगाकर पूजा गया

“अपनी जान की परवाह न करके दूसरों की जान बचाने की कोशिश में हमेशा तैनात है हमारे रक्षक”     

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

आज भारतीय सेना के एडीजीपीआई ने भारतीय सेना के जवानों का आम नागरिकों के साथ एक भावुक वीडियो पोस्ट किया है। जिसमें तमाम महिलाएं भारतीय सैनिक, जिन्होंने महाराष्ट्र में भारी बाढ़ में फंसे लोगों को बिना किसी स्वार्थ के मुसीबत से बाहर निकाला है, उनके लिए थाली में आरती सजाए हुए नजर आ रही है।

इस भारी भीड़ में महिलाएं भारतीय सेना के बचाव दल के सैनिकों को हल्दी रोली का टीका करते हुए नजर आ रही है , और टीका करके महिलाएं सैनिकों को राखी बांधती हुई भी नजर आ रही, मौका बचाव दल के अपनी यूनिट में वापस लौटने का है।

हालांकि सैनिक कभी किसी देशवासी से बदले में कोई मदद लेने में यकीन नहीं रखता लेकिन, सांगली की महिलाओं ने भारतीय सैनिकों को वह सम्मान और स्नेह दिया कि दुश्मन के सीने में गोली चलाते वक्त जिनके हाँथ नहीं कांपते, उनकी आंखों में प्रेम के आंसू सहजता से नजर आ रहे है।

सैनिक स्नेह भाव को और ऊंचाई पर ले जाते हुए राखी बांधने वाली बहनों के पैर छूकर उनका सम्मान हिमालय के जैसा बुलंद करते हुए नजर आ रहे है,राखी बांधने वाली महिलाओं में नवयुवतियों, से लेकर बुजुर्ग महिलाएं तक शामिल है।

"सेना पर आक्षेप लगाने वालों, सेना के पराक्रम पर सवाल उठाने वालों के लिए यह दृश्य कटार के माफिक होगा"

हालांकि यह भी सही है कि सेना का काम इस तरह की समस्याओं से निजात दिलाना नहीं है, लेकिन भारतीय सेना की यही तो खासियत है, चाहे आपकी गलती से कोई बच्चा बोरवेल में गिर जाए तो सेना की जरूरत होगी, या कही भूकंप आ जाये तो सेना की ओर ही आँखे उठेंगी, लेकिन जब कहीं सेना के मनोबल को बढ़ाने की जरूरत होती है तब हम जाति, धर्म, राजनीति के टुकड़ों में बट जाते है।

लेकिन शायद सेना हमारी फ़ितरत से वाकिफ है उसे हमारी न तो कोई सहानुभूति की आवश्यकता है ,न ही उत्साहवर्धन की। फिर भी हमारा यह फर्ज बनता है कि जहां भी कोई भारतीय सेना का सैनिक मिले उसे यथोचित सम्मान मिले।

इस वीडियो में वो सब है जो आपके अंदर में छुपी मानवता का बांध तोड़ देगा -

बाढ़ राहत और बचाव के बाद #भारतीय सेना के साथ सांगली, महाराष्ट्र के कुछ भावुक क्षण। हमारे देशवासी हमारे प्रेरणा के स्रोत हैं। #IndianArmy #राष्ट्र #सर्वोपरि #IndianArmy

Posted by ADGPI - Indian Army on Sunday, August 11, 2019