उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
पीड़ित महिला 
पीड़ित महिला |Social Media
टॉप न्यूज़

उत्तर प्रदेश पुलिस का एक और कारनामा , पीड़िता ने सोशल मीडिया पर लगाई गुहार

उत्तर प्रदेश पुलिस की इस गलती का क्या जवाब देंगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

उत्तर प्रदेश पुलिस कभी अपने अच्छे काम के लिए जानी जाती है तो कभी ऐसा काम कर देती है ,जिसकी वजह से पूरी दुनियां में बेइज्जत होना पड़ता है, इसकी ताजा मिसाल कानपुर के सनिगवां कानपुर नगर की है। जहां संदीप कुशवाहा को पुलिस ने किसी हत्या के संदेह में उठाया था, मामले में कोई जानकारी और सफलता न मिलने पर कानपुर पुलिस ने संदीप पर थर्ड डिग्री का भयानक प्रयोग किया जिसमें पीड़ित के हांथ-पैर पर किलियों और हथौड़े का प्रयोग करके, अपराध कुबूलने की धमकी दी गई।

लेकिन जब पीड़ित इस पर भी टस से मस नहीं हुआ और बिना किए अपराध को नहीं स्वीकारा तो, पीड़िता की पत्नी आरती कुशवाहा को महिला पुलिस से बलपूर्वक चकेरी थाने उठवा लिया गया, और पति के सामने अश्लीलता की हद पार की गई और यह धमकी दी गयी कि अगर तुमने यह जुर्म कुबूल नहीं किया तो तुम्हारी बीवी के साथ पुलिस स्टेशन के अंदर ही बलात्कार जैसी घटना को अंजाम दिया जाएगा।

वीडियो लिंक

ये वीडियो आरती कुशवाहा पत्नी सन्दीप उर्फ छोटे , निवासी -सनिगवां कानपुर नगर !की है इनके साथ चकेरी थाने की पुलिस ने इनके...

Posted by आर. पी. द भारतीय on Monday, July 29, 2019

पीड़िता के अनुसार मेरे पति ने पुलिस की धमकी के अंदर अपना सर झुकाकर अपराध कुबूल कर लिया है ताकि, पुलिस उसकी आँखों के सामने उसकी पत्नी के साथ व्यभिचार जैसी घटना को अंजाम न दे पाए। गौरतलब हो पीड़िता आरती कुशवाहा के अनुसार उसे बिना किसी महिला पुलिस की अभिरक्षा के 12 घंटे थाने में रखा गया, जो कि न सिर्फ गैरकानूनी है बल्कि नारी अस्मिता के लिए एक चोट के समान माना जायेगा।

हालांकि यह यह निश्चय करना कि संदीप वास्तव में अपराधी है या नहीं इस बारे में कुछ भी कहना ठीक नहीं है लेकिन जिस तरह से पुलिसिया जुल्म की दास्तान आरती ने सुनाई वह शरीर मे सिहरन लाने के लिए काफी है। किसी व्यक्ति को दोषी सिद्ध करना कोर्ट का काम है लेकिन जब इस जिम्मेदारी को पुलिस उठा लेती है तब ज्यादती होना निश्चित है।