उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात
रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात|Google
टॉप न्यूज़

प्लास्टिक बना इंसान की जान का दुश्मन, रेलवे ने निकाला अनोखा रास्ता

प्लास्टिक के कचरे की समस्या सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि विश्व के लिए भी एक गंभीर समस्या बन चुकी है इस पर जल्द से जल्द कठोर कदम उठाना अनिवार्य है। 

Puja Kumari

Puja Kumari

हमारे देश में तमाम तरह की समस्याएं हैं जिसमें से कुछ समस्या ऐसी है जो लोगों के जीवन को भी प्रभावित करती है आज हम आपसे उनमें से ही एक विशेष समस्या के बारे में बात करने जा रहे हैं, जिससे भारत ही नहीं बल्कि पूरा विश्व परेशान है। दरअसल हम बात कर रहे हैं प्लास्टिक के कचरे की समस्या का जोकि पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचाता है।

अगर आप गौर करेंगे तो रोज की दिनचर्या में आप जहां भी जाएंगे वहां प्लास्टिक ही पाएँगे, चाहे नदी हो या सड़क या समुद्र हो या फिर कोई भी स्थान। ऐसा इसलिए है क्योंकि आज के समय में खाना खाने से लेकर पानी पीने तक सभी चीजों में प्लास्टिक का प्रयोग धड़ल्ले से हो रहा है। हालांकि प्लास्टिक से हो रहे नुकसान के बाद कई बार इस पर पाबंदी लगाने की बात हुई सरकार ने कई जगहों पर प्लास्टिक पर बैन भी लगाया लेकिन कुछ शर्तों के साथ। प्लास्टिक के कारण इंसान ही नहीं बल्कि जीव जंतु के जीवन पर भी खतरा मंडराने लगा है।

रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात
रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात
Google

प्लास्टिक के कचरे के बारे में क्या कहते हैं आंकड़े

अगर किसी भी समस्या को आकंड़ों के जरिये देखेंगे तो यह समझने में आसानी हो जाएगी कि हम उस समस्या के कितने करीब हैं? या फिर हमें उस समस्या से निजात मिल भी सकता है या नहीं?

सबसे पहले तो ये जानकर ताज्जुब होगा कि पूरे विश्व में एक साल में 500 अरब प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल होता है। उदाहरण के तौर पर देखे तो कोका कोला कम्पनी सिर्फ ब्रिटेन में ही 38, 250 टन प्लास्टिक का प्रयोग एक साल में कर लेती है और वो भी सिर्फ पैकेजिंग के लिए।

दरअसल ब्रिटेन में ये कंपनी हर साल 10 अरब ऐसी प्लास्टिक बोतलों का प्रयोग करता है जिसका सिर्फ एक बार इस्तेमाल किया जा सकता है। वहीं दूसरी ओर भारत पर गौर फरमाएं तो यहां की स्थिति भी कुछ ठीक नहीं है, इसलिए सरकार इस समस्या को अब गंभीरता से ले रही है और इससे निजात पाने के लिए हल भी ढूंढ रही।

रेलवे दिलाएगा समस्या से निजात

भारतीय रेलवे ने इस समस्या से निजात पाने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है। जिसके जरिये वो प्लास्टिक की बोतलों से टीशर्ट और टोपी बना रही है, इतना ही नहीं इसके लिए रेलवे ने एक बेहतरीन तरीका निकाला है। दरअसल प्लास्टिक की बोतलों को जमा करने के लिए रेलवे हर बोतल के हिसाब से आपको 5 रुपये देगी। रेलवे ऐसा इसलिए कर रही है क्योंकि इससे पर्यावरण को सुरक्षित करने में काफी सहायता मिलेगा।

रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात
रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात
google

भारतीय रेलवे ने अपने पूर्व मध्य वाली लाइन के 4 स्टेशनों (पटना जंक्शन, राजेंद्रनगर, पटना साहिब, दानापुर जंक्शन) पर रिवर्स वेंडिंग मशीन लगाया जिसमें लोगों को प्लास्टिक की बोतलों को मशीन में डालना है और इसके बदले में आपको रेलवे प्रति बोतल के हिसाब से 5 रुपए देगी। अब आप ये सोच रहे होंगे कि रेलवे इन बोतलों का करेगी क्या ? तो बता दें कि इन क्रश किये हुए बोतलों से रेलवे टीशर्ट और टोपी बनाएगी, जो कि हर मौसम में पहनने लायक होंगे। इतना ही नहीं ये भी बताते चलें कि टीशर्ट और टोपी बनाने के लिए रेलवे का मुम्बई की एक कंपनी के साथ डील हुई है, जो जल्द ही इन बोतलों से बनाए गए टीशर्ट और टोपी को बाजार में लाएगी।

क्या है भारतीय रेलवे का मकसद

रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात
रेलवे दिलाएगा प्लास्टिक की समस्या से निजात
google

जैसा कि हम भी जानते हैं कि पानी की इन बोतलों को एक बार इस्तेमाल करने के बाद क्रश केरके फेंक देना होता है लेकिन हममें से अधिकतर लोग ऐसा नही करते हैं कुछ लोग तो इसका इस्तेमाल कई बात करते हैं और उसके बाद इसे इधर-उधर फेंक कर चले जाते हैं इसकी वजह से रेलवे पटरी और स्टेशनों पर प्लास्टिक का कचरा फैल जाता है।

रेलवे का कहना है कि अगर वह प्रति बोतल 5 रुपए लोगों को देता है तो कोई भी बोतलों के इस्तेमाल करने के बाद उसे इधर-उधर नहीं फेंकेगा। जानकारी के लिए बता दें कि यह 5 रुपए आम लोगों को वाउचर के रूप में मिलेगा जो कि 'बायोक्रश' नाम की कंपनी देगी इस 5 रुपए का प्रयोग आप बाजार में किसी भी सामान को खरीदने में कर सकते हैं।