उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Banda Police
Banda Police|Social Media
टॉप न्यूज़

प्रेमी ने प्रेमिका और माँ को गोली से भूना, बाद में कनपटी में गोली मार कर आत्महत्या कर ली

“इश्क का ये ख़ौफ़नाक मंजर जिसने देखा, सहम गया”

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बाँदा जिले के गिरवां गांव के लिए आज का दिन बेहद दर्दनाक रहा। इश्क की खुमारी सिरफिरे के सर पर ऐसी चढ़ी की, कि दो आंखों वाला आशिक इश्क में अंधा हो गया और इसी खुमारी में आकर उसने अपनी प्रेमिका सहित प्रेमिका की माँ को गोली मार कर मौत की नींद सुला दी। बाद में खुद अपनी कनपटी पर अवैध हथियार सटाकर गोली मार ली, देखते ही देखते एक ही घर मे तीन लाशें खून से लहूलुहान होकर जमीन पर लेटी नजर आने लगीं।

गांव वाले की बताई घटना
गांव वाले की बताई घटना
Social Media

मामला गिरवां थाने के चंद कदम दूरी काली मंदिर के पीछे नई बस्ती का है। जहां सुधांशु पुत्र मोतीलाल ने, तुलसाबाई पत्नी फूलचंद उम्र लगभग बयालीस वर्ष, अंजू पुत्री फूलचंद उम्र बाइस साल की गोली मार कर हत्या कर दी।

समय करीब दोपहर 2 बजे का था कि सुधांशु फूलचंद के घर पहुंचा और दरवाजे पर जाकर गंदी-गंदी गालियां देने लगा, तुलसा ने इस बारे में विरोध किया तो सनकी प्रेमी ने घर के अंदर घुस कर तुलसा के सीने में गोली मार दी, गोली की आवाज सुनकर अंजू आंगन में दौड़ती हुई आयी इस पर सुधांशु ने अंजू पर हथियार तान दिया और इससे पहले की अंजू कुछ समझ पाती, सुधांशु ने अंजू के ऊपर गोली चला दी, खून से लथपथ होकर दो लाशें जमीन पर गिर पड़ी। लगातार दो गोलियों की आवाज को सुनकर ग्रामीण मौका मुकाम की तरफ दौड़े, लेकिन तब तक सुधांशु ने अपनी कनपटी पर हथियार को सटा कर गोली मार ली, और बेदम होकर जमीन पर गिर पड़ा।

इस मामले को लेकर पुलिस उप महानिरीक्षक चित्रकूट धाम परिक्षेत्र, पुलिस अधीक्षक बाँदा और क्षेत्र के सभी बड़े विभागीय अधिकारी मौके पर उपस्थित रहे, एसपी गणेश साहा ने बताया कि यह मामला प्रेम प्रसंग का है, और इस मामले में हर संभव एंगल को जोड़कर देखा जाएगा,

ग्रामीणों के अनुसार इस हादसे के लिए कई लोग जिम्मेदार हो सकते है, क्योंकि आरोपी भले ही आवारा किस्म का रहा हो, लेकिन एक साथ दो हत्याएं करने की हिम्मत उसमें नहीं थी।

एक दिन पहले दी थी जान से मारने की धमकी

आरोपी सुधांशु ने घटना के एक दिन पहले ही मृतका के घर के सामने गाली गलौज की थी, पीड़ित पिता के अनुसार "कल शाम को सुधांशु मेरे घर पर आया था , जिस पर मैंने उसे अपने घर मे आने जाने से रोका था, लेकिन सुधांशु ने कहा था कि अगर मेरी मोहब्बत मुकम्मल न हुई तो मैं ना तो इसे जीने दूंगा , न ही खुद जिऊंगा"