उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया 
पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया |Uday Bulletin
टॉप न्यूज़

बनने चले थे डॉन, पुलिस ने कर दिया डाउन

“हथियारों के शौक ने खिलाई जेल की रोटियां”

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बुंदेलखंड में खासकर बाँदा जिले में हथियारों के प्रति लोगों का प्रेम किसी से छुपा नही है। यहां वैध और अवैध दोनों तरह के असलहों के लिए लोग लाइन लगाए खड़े रहते है। कुछ लोग इन्हें आत्मरक्षा के नाम पर रखते है तो कोई अपने को समाज मे दबंग या दादू बनने के चक्कर में। इसी चक्कर में किशोर ने सोशल मीडिया (फेसबुक) में अवैध कट्टो(तमंचों ) के साथ फोटो पोस्ट की, और ये पोस्ट घूमते-घूमते बाँदा पुलिस की सोशल मीडिया सेल के हाँथ लग गयी, फिर क्या था, पुलिस ने सुरागरसी कर के दोनों आरोपियों को धर लिया और मुकदमा कायम कर दिया।

बीते दिनों राज उर्फ राजकमल पटेल पुत्र आलोक पटेल निवासी बड़ागांव थाना बिसंडा जिला बाँदा ने फेसबुक और व्हाट्सएप पर अपनी एक तस्वीर वायरल की थी। जिसमें उसने अपने पास 3 तमंचे रखे हुए थे, फोटो को वायरल करने का एक मात्र उद्देश्य था कि इलाके में धाक जम सके और लोगों में उसके नाम का भय व्याप्त हो सके। बाँदा पुलिस की सोशल मीडिया सेल ने जब इन वायरल तश्वीरों पर अपनी नजर डाली तो इन पर सख्त निगरानी के लिए देहात कोतवाली प्रभारी को निर्देशित किया गया, और पुलिस इनकी गिरफ्तारी के लिए सक्रिय हो गई।

पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया 
पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया 
Social Media

नतीजन 24 जुलाई की तारीख को पुलिस को यह सूचना मिली कि महोखर चौराहे ( बाँदा )के पास एक व्यक्ति अपने सहयोगी के साथ घूम रहा है। जिसके पर 315 बोर के तीन कट्टे (अवैध) तमंचे है पुलिस ने जल्द ही जाकर दो लोगों को मौके पर माल असबाब के साथ गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों से मौके पर तीन अदद 315 बोर देशी मेड तमंचे और चार जिंदा कारतूस बरामद हुए है। दोनों अभियुक्तों को पुलिस ने चालान कर के पुलिस अभिरक्षा में भेज दिया है।

उत्तर प्रदेश में है हथियारो का भयानक चलन

उत्तर प्रदेश में छोटे बड़े कुल मिलाकर बारह लाख ससहत्तर हजार नौ सौ चौदह से भी ज्यादा लाइसेंसी हथियार मौजूद है। अकेले बाँदा में करीब सत्रह हजार से ज्यादा लाइसेंसी हथियार मौजूद है। जिले में छोटे हथियारो के साथ साथ 4 कार्बाइन बंदूक भी मौजूद है , जिनका लायसेंस विशेष परिस्थितियों में निर्गत किया जाता है, यह ऑटोमेटिक बंदूक की श्रेणी में आती है।