उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
17th Loksabha Session
17th Loksabha Session|Social Media
टॉप न्यूज़

लोकसभा में ओवैसी से बोले अमित शाह “सुनने की आदत भी डाल लीजिए ओवैसी साहब” और फिर हो गया हंगामा

लोकसभा में हुआ शाह बनाम ओवैसी 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

आज संसद में प्रश्नकाल सत्र के बाद जब सदन की कार्रवाई शुरू हुई तो लोकसभा का माहौल ही कुछ और था। नेता बहस छोड़ कर एक दूसरे के खिलाफ छीटाकसी कर रहे थे। आरोप और प्रत्यारोप के बीच भारतीय जनता पार्टी ने आज लोकसभा में NIA संशोधन विधेयक (National Investigation Agency (Amendment) पेश किया। गृह मंत्री अमित शाह द्वारा इस विधेयक को पेश करने के बाद AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने इसे डराने वाला विधेयक बता दिया। जिसके बाद इन दोनों नेताओं के बीच नोकझोंक शुरू हो गई। गृह मंत्री अमित शाह ने असदुद्दीन ओवैसी से कहा कि "सुनने की आदत डालिए ओवैसी साहब।"

दरअसल NIA संशोधन विधेयक की चर्चा के दौरान बीजेपी नेता डॉ सत्य पाल सिंह ने कहा कि आतंकवाद को राजनीति से प्रेरित नहीं होना चाहिए। ये मानवता के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि हैदराबाद की घटना है यहां एक पुलिस अधिकारी को एक नेता के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने दिया गया। उनके सामने मुश्किलें खड़ी की जा रही है। राज्य के मुख्य मंत्री ने यह कार्रवाई नहीं होने दी। मैं कहता हूं अगर ऐसा ही होता रहा तो हमारे कानून की क्या अहमियत रह जाएगी।

ओवैसी और शाह की तकरार

डॉ सत्य पाल सिंह के इतना कहते ही सदन में हंगामा शुरू हो गया। नेता इसकी आलोचना करने लगे। AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी अपने स्थान पर खड़े हो गए और उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के नेता जिस बातचीत का जिक्र सदन में कर रहे हैं। उसका यहाँ पर उपस्थित किसी भी नेता से कुछ लेना देना नहीं है। यह उनकी निजी बातचीत का हिस्सा है।

जिसपर गृह मंत्री अमित शाह ने असदुद्दीन ओवैसी को जवाबा दिया। उन्होंने कहा जब सांसद ए राजा साहब बोले रहे थे तब आप खड़े क्यों नहीं हुए ? और जब बीजेपी सांसद बोल रहे तो आप खड़े हो गए। ये बर्ताव नहीं चलेगा ओवैसी साहब। सुनने की आदत भी डाल लीजिए।

अमित शाह को ओवैसी का जवाब

अमित शाह की बात का जवाब देते ओवैसी ने कहा कि आप गृह मंत्री हैं तो हमें डराए नहीं। हम डरने वालों में से नहीं हैं। उन्होंने आगे कहा कि जो लोग भाजपा के फैसलों का समर्थन नहीं करते है, बीजेपी उन्हें देशद्रोही कहते हैं। क्या उन्होंने देश और देशद्रोहियों की दुकान खोल दी है? अमित शाह अपनी उंगली उठाकर हमें धमकी देते हैं लेकिन वह सिर्फ एक गृह मंत्री हैं, भगवान नहीं। उन्हें पहले नियम पढ़ना चाहिए।

आतंकवाद को खत्म करने के लिए NIA का इस्तेमाल

NIA पर अमित शाह ने कहा कि नरेन्द्र मोदी जी की सरकार राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (संशोधन) विधेयक 2019 का कभी दुरुपयोग नहीं होने देगी। इस कानून का शुद्ध रूप से उपयोग आतंकवाद को खत्म करने के लिए किया जाएगा। आतंकवाद को खत्म करते हुए यह भी नहीं देखा जाएगा कि अपराध किस धर्म के व्यक्ति ने किया है। संसद में किसी गंभीर मुद्दे पर चर्चा करते हुए हमें ध्यान रखना जरूरी है कि इसके दूरगामी परिणाम होते हैं। आतंकवाद से खिलाफ कार्रवाई करने वाली किसी एजेंसी को और ज्यादा ताकत देने की बात हो और सदन एक मत न हो, तो इससे आतंकवाद फैलाने वालों का मनोबल बढ़ता है।