उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Madarsa
Madarsa|Social Media
टॉप न्यूज़

मदरसे में मिला हथियारों का जखीरा , संचालक समेत कई वांछित गिरिफ्तार 

हथियार डिलेवरी वाली स्विफ्ट कार पर लिखा था शिव सेना

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

मदरसा जिसे इल्म और हुनर हासिल करने की जगह माना जाता है, अगर इसी इल्म की जगह पर हथियारों का जखीरा मिल जाये तो समाज की नजरे शंका के साथ उठ खड़ी होती है। बिजनोर में एक ऐसी ही घटना देखने को मिली। जहां शेरकोट में कंदला रोड के नजदीक चल रहे मदरसे दारूल कुरआन हमीद के अंदर से हथियारों का जखीरा बरामद हुआ है।

बिजनौर के अफजलगढ़ थाने के सीओ कृपाशंकर ने मुखबिर की निशानदेही पर मदरसे में छापा मारा। छापे के दौरान 32 पिस्टल , आठ जिंदा कारतूस, 315 बोर के तीन तमंचे और 32 कारतूस, 32 बोर की छह राऊंड रिवॉल्वर के साथ 16 कारतूसों की बरामदगी की। मदरसे में इन हथियारो के साथ फईम अहमद, शेरकोट बाशिन्दा साजिद, जफर इस्लाम,शाबिर (बिहार निवासी) और स्थानीय निवासी फजीजुर्रह्मान को गिरिफ्तार करके पुलिस ने पूंछताछ शुरू कर दी है।

पूछ-ताछ में सामने आया है कि इसमें पकड़े गए 2 आरोपी क्रमशः आगरा और देहरादून में हत्या आरोपी और वांछित है। पुलिस के अनुसार यह मदरसा अपराधियो का अड्डा था, ये अपराधी कही से भी अपराध करके यहाँ आराम से छिप जाते थे। पूछ-ताछ में सामने आया है कि इसमें पकड़े गए 2 आरोपी क्रमशः आगरा और देहरादून में हत्या आरोपी और वांछित है। पुलिस के अनुसार यह मदरसा अपराधियो का अड्डा था, ये अपराधी कही से भी अपराध करके यहाँ आराम से छिप जाते थे।

हथियारो का होता था व्यापार

मदरसा वास्तव में जुर्म को छिपाने का एक बहाना था, इस मदरसे में , हकीमी दवा बाटने का काम किया जाता था, और आपराधिक प्रव्रत्ति के लोग एवम हथियारो के खरीददार दवा लेने के बहाने आते थे। इस से स्थानीय लोगों के द्वारा कोई शंका नहीं की जाती थी। मदरसे में हथियार बिहार से बिक्री के लिए लाए जाते थे, और मदरसा होने के कारण इस पर कोई शक ही नहीं कर सकता था।

डिलेवरी में करते थे कार का इस्तेमाल

अपराधियों की मानसिकता का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि बो जिस स्विफ्ट कार का इस्तेमाल हथियार डिलेवरी में करते थे उसमे "शिव सेना" लिखाया हुआ था , जिस से कोई व्यक्ति उन पर शक न कर सके।

छापे के दौरान हुआ बवाल

जिस समय स्थानीय पुलिस ने छापा मारा , मदरसे समेत आस पास की बस्ती में तहलका मच गया। मदरसे में करीब 25 की संख्या में विद्यार्थी पढ़ते थे, जिनको पुलिस के आने पर क्या किया जाए ऐसी बातों के बारे में पहले से बता कर रखा गया था। विद्यर्थियों के साथ दिखावटी कड़ाई करने पर पढ़ने वाले बच्चों ने जो हालात बयां किये वो वाकई चिंताजनक थे। उनके अनुसार अंदर के किनारे वाले कमरे में किसी को भी जाने से मनाही थी, और उनके अनुसार वही हथियार रखे जाते थे।

मदरसे में मिले हथियारों की घटना के बाद से स्थानीय लोग सकते में हैं, उनके अनुसार मदरसे इल्म पाने की जगह है यहाँ अपराधियों और हथियारों का क्या काम। इस से अन्य लोगों का मदरसो पर से भरोसा उठेगा।