उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा|Social Media
टॉप न्यूज़

देश भर में रथ यात्रा की धूम यहां देखें देश-दुनिया से उमड़े भक्तों की फोटो और वीडियो

भक्तों के रंग में रंगे भगवान जगन्नाथ 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

आज देश भर में जगन्नाथ रथ यात्रा की धूम रही। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपनी पत्नी सोनल शाह के साथ आज सुबह पुरी के ऐतिहासिक जगन्नाथ मंदिर में 'मंगला आरती' की और पुरी की ऐतिहासिक रथयात्रा के साथ होने वाली गुजरात की वार्षिक जगन्नाथ रथ यात्रा भी शुरू हो गई। इस यात्रा में दुनिया भर के लोगों ने हिस्सा लिया। गुजरात से लेकर बंगाल, उड़ीसा और झारखण्ड में भी लाखों भक्तों का सैलाब इस रथ यात्रा में हिस्सा लेने उमड़ा।

गृह मंत्री अमित शाह अपनी पत्नी सोनल शाह के साथ जगन्नाथ मंदिर में ‘मंगला आरती’ करते हुए।

जगन्नाथ रथ यात्रा में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में भक्त जुटे।

ओड़िसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा, "रथ यात्रा के अवसर पर सभी को मेरी शुभकामनाएँ"

बीजेपी नेता और प्रवक्ता संबित पात्रा ने रथ यात्रा की बधाई दी।

ओडिशा: पुरी बीच पर बनाई गई जगन्नाथ रथ यात्रा की थीम पर सैंड आर्ट।

ओडिसा में चलता है 10 दिन का त्यौहार

ओड़िसा के पूरी में जगन्नाथ रथ यात्रा का उत्सव बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। यहां यह पर्व 10 दिन तक चलता है। बता दें कि भगवान जगन्नाथ जी की रथयात्रा की शुरुआत आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को होती है। और 10 दिन बात ख़त्म होती है। 10 दिन के लंबे समय में यहां देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं और भगवान जगन्नाथ जी के रंग में रंग जाते हैं।

क्या है पौराणिक मान्यता

बताया जाता है कि पौराणिक मान्यताओं के अनुसार आज के दिन भगवान जगन्नाथ, बहन सुभद्रा और उनके भाई बालभद्र तीनों रथ में सवार होकर अपनी मौसी के घर गुंडिचा मंदिर जाते हैं। वहां एक हफ्ते तक रुकते हैं। और फिर वापस लौट आते हैं। मौसी के घर में उनका खूब आदर सत्कार होता है। स्‍वादिष्‍ट पकवानों और फल-फूलों का भोग लगाया जाता है। जिसे खा कर भगवान बीमार हो जाते हैं और फिर उन्हें पथ्य का भोग लगाया जाता है ताकि वो ठीक हो जाये। दिन पुरे होने के बाद भगवान जगन्नाथ वापस अपने घर लौट आते हैं।