उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
बजट 2019
बजट 2019|google
टॉप न्यूज़

जानें, क्या है बजट 2019 की सबसे बड़ी चुनौती, इस बार क्या होगा खास

इस बार के बजट से जनता की कई सारी उम्मीदें भी जुड़ी हुई हैं, देखना ये होगा कि 5 जुलाई को आने वाले बजट में सरकार जनता की उम्मीदों पर कितना खरा उतरती हैं। 

Puja Kumari

Puja Kumari

लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार को भारी बहुमत से जिताने वाली जनता की नजरें अब बजट पर टिकी हुई है। इस बार का बजट कई वजहों से खास होने वाला है और यही वजह है कि हर व्यक्ति को इसका बेसब्री से इन्तजार है। बताया जा रहा है इस बजट (Budget 2019) में तमाम तरह के अहम मुद्दों पर गौर किया जाएगा, जिससे हर जरूरतमंद को फायदा होगा। बजट को लेकर लोगों में उत्साह इसलिए भी देखने को मिलता है क्योंकि इसका असर हर इंसान की जेब पर पड़ता है।

बजट को यदि आसान शब्दों में समझे तो बजट एक अवधि के लिए एक वित्तीय योजना है, अक्सर एक वर्ष। इसमें नियोजित बिक्री वॉल्यूम और राजस्व, संसाधन मात्रा, लागत और व्यय, संपत्ति, देयताएं और नकदी प्रवाह शामिल हो सकते हैं।
निर्मला सीतारमण
निर्मला सीतारमण
google

मोदी (PM Modi) की अगुआई में दोबारा सत्ता में आई एनडीए सरकार (NDA Government)का बजट 5 जुलाई 2019 को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किया जाएगा। वहीं एक बात और बता दें कि बजट पेश करने से पहले निर्मला सीतारमण (Nirmala sitharaman) ने मनमोहन सिंह से भी मुलाकात की है। बताया जा रहा है बीते 28 सालों में ऐसा पहली बार होगा जब बजट पेश होने के दौरान मनमोहन सिंह वहां मौजूद नहीं होंगे क्योंकि इसी माह मनमोहन सिंह का कार्यालय समाप्त हो रहा है। सरकार ने निर्मला सीतारमण को यह जिम्मेदारी सौंपी है जिससे उनके सामने कई चुनौतियां भी हैं ऐसे में ये देखना रोचक होगा कि निर्मला सीतारमण अपने इस चैलेंज को कितने अच्छे से पूरा करती हैं।

इस बजट में क्या होगा खास

जब बात बजट की हो रही है तो ऐसे में हर व्यक्ति की जिज्ञासा ये जानने में अवश्य होगी कि इस बार के बजट (Budget 2019) में क्या खास होगा? या फिर इस बार किन-किन मुद्दों पर ज्यादा गौर किया जाएगा? सरकार के इस बार के बजट से किसे कितना लाभ मिलेगा? ये सारे सवाल ऐसे हैं जो अभी जनता के मन में आ रहे हैं। तो इस बारे में आज हम आपको कुछ थोड़ी बहुत जानकारी देने जा रहे हैं जिससे आपकी कौतुहलता कुछ हद तक शांत हो जाएगी।

निर्मला सीतारमण
निर्मला सीतारमण
google

कुछ अर्थशास्त्रियों का अनुमान है कि इस बार का बजट भी पिछले बजट से काफी हद तक मिलता जुलता ही होगा। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बार के बजट में सरकार कुछ नई स्किम ला सकती है, जैसे-आजकल जलसंकट को लेकर काफी चिंता बनी हुई है, इसलिए सरकार वाटर रिसोर्स को लेकर बड़ा कदम उठा सकती है ताकि आने वाले समय में जल संकट की स्थिति से निपटा जा सके।

इसके अलावा बात करें हेल्थ व एजुकेशन (Health and Education) की तो इसबार सरकार का फोकस इनपर भी हो सकता है, पिछली बार के आयुष्मान भारत योजना की तरह इस बजट में भी एजुकेशन को लेकर कुछ इसी तरह की योजनाएं सरकार ला सकती है जिससे युवाओं को काफी लाभ हो सकता है।

इस बजट में सरकार के सामने होंगी ये चुनौतियाँ

देश की औद्योगिक माहौल से काफी अच्छी से परिचित निर्मला सीतारमण (Nirmala sitharaman) के सामने इस बजट में कई सारी बड़ी चुनौतियां हैं। जिसमें सबसे अहम चुनौती तो देश की अर्थव्यस्था की मंदी को लेकर है। माना जाता है कि भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे ज्यादा तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था (Economy) में से एक है तभी तो नोटबंदी व जीएसटी जैसी समस्याओं को झेलने के बावजूद ये वापस अपनी गति में आ गई। भारत की अर्थव्यवस्था को इसी गति में बनाएं रखने के लिए वित्त मंत्री को भरसक प्रयास करने होंगे।

निर्मला सीतारमण
निर्मला सीतारमण
google

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ( Finance minister Nirmala Sitharaman) के सामने जीएसटी से लेकर युवाओं के लिए नए नौकरियां लाना भी एक बड़ी चुनौती होगी क्योंकि देखा जाए तो इस समय देश में बेरोजगारी भी एक गंभीर समस्या बन चुकी है। अर्थव्यवस्था में सुधार के साथ कृषि व्यवस्था में भी कुछ वित्त मंत्री को गौर करना होगा। इसके अलावा इस बजट में मैनुफैक्चरिंग सेक्टर को बढ़ावा भी दिया जा सकता है, जिससे कि टेक्सटाइल के मामले में भी हमारा देश आगे आ सके। हालांकि चुनौतियां तो निर्मला सीतारमण के सिर पर पहाड़ के रूप में हैं लेकिन अब ये तो 5 जुलाई को ही समझ आएगा कि ये बजट देश की जनता के लिए कितना सही साबित होगा।