उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
राज्यसभा में पीएम मोदी का संबोधन 
राज्यसभा में पीएम मोदी का संबोधन |Social Media
टॉप न्यूज़

राज्यसभा में पीएम मोदी का संबोधन: कहा- सत्ता में आने का पूरा क्रेडिट कांग्रेस को दूंगा

राज्यसभा ने मोदी ने दिया 2 से दोबारा का मोदी मंत्री  

Uday Bulletin

Uday Bulletin

ताउम्र ग़ालिब ये भूल करता रहा, धूल चेहरे पर था, आईना पोछता रहा 

पीएम मोदी ने मिर्जा ग़ालिब का शेर सुनाया 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल लोकसभा को संबोधित करने के बाद आज राज्यसभा को संबोधित क्या। जहां प्रधानमंत्री ने कांग्रेस को निशाना बनाते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में मिले बहुमत को "देश हार गया" कहना करोड़ों मतदाताओं का अपमान है। प्रधानमंत्री ने कहा देश नहीं हार है बल्कि कांग्रेस हार गई है। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए राज्यसभा में कहा कि 2019 का चुनाव दलों से परे देश की जनता लड़ रही थी। जिसे लाभ नहीं मिला वो भी ये बात करता था कि उस व्यक्ति को लाभ मिल गया है अब मुझे भी मिलने वाला है। इस विश्वास ने जीत दिलाई है।”

राज्यसभा में प्रधानमंत्री मोदी की 10 खास बातें-

1. पहली बार चमकी बुखार पर बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले दिनों बिहार के चमकी बुखार की चर्चा हुई है। आधुनिक युग में ऐसी स्थिति हम सभी के लिए दु:खद और शर्मिंदगी की बात है। इस दु:खद स्थिति में हम राज्य के साथ मिलकर मदद पहुंचा रहे हैं। ऐसी संकट की घड़ी में हमें मिलकर लोगों को बचाना होगा।

2. आयुष्मान भारत योजना पर बोलते हुए पीएम ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना की ताकत हर उस सांसद को पता है जो जिसने अपने इलाके के गरीब के इलाज के प्रधानमंत्री को कभी चिठ्ठी लिखी हो। अब चिठ्ठी नहीं लिखनी पड़ती। क्योंकि आयुष्मान भारत योजना से गरीबों को फायदा मिल रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय जाने की अब जरूरत नहीं है।

3. पीएम मोदी ने कहा कि एनआरसी का क्रेडिट कांग्रेस को भी लेनी चाहिए। राजीव गांधी सरकार ने असम एकॉर्ड में एनआरसी को स्वीकार किया था। हमें सुप्रीम कोर्ट ने आदेश किया तो हम उसे लागू कर रहे हैं। आप भी क्रेडिट लीजिए न। वोट भी लेना है और क्रेडिट भी नहीं लेना। आधा बोलना और आधा न बोलना ऐसा न कीजिए।

4. जम्मू-कश्मीर की समस्या पर बोलते हुए पीएम ने कहा कि हमारा मानना है कि सरदार साहब अगर देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो शायद आज देश में जम्मू-कश्मीर की समस्या नहीं होती, हिंदुस्तान के गांवों की आज जो जद्दोजहद है वो भी न होती। सरदार साहब को कांग्रेस ने देश का पहला गृहमंत्री बनाया था, वो पक्के कांग्रेसी थे। लेकिन मैं हैरान हूं कि जब गुजरात में चुनाव होते हैं तो वो कांग्रेस के पोस्टर में नजर आते हैं, लेकिन देश भर में कहीं नजर नहीं आते।

5. पीएम ने कहा कि क्या हमें वो ओल्ड इंडिया चाहिए जो टुकड़े-टुकड़े गैंग को सपोर्ट करने के लिए पहुंच जाए। जहां इंस्पेक्टर राज हो, जहां इंटरव्यू के नाम पर भ्रष्टाचार हो। देश की जनता हिंदुस्तान को पुराने दौर में ले जाने के लिए कतई तैयार नहीं हैं।

आपको OLD INDIA चाहिए, जहां पत्रकार वार्ता में कैबिनेट के निर्णय को फाड़ दिया जाए, जहां पूरी नौसेना को सैर सपाटे के लिए इस्तेमाल लिया जाए। जहां जल थल और नभ हर जगह घोटाले ही घोटाले हों। लेकिन देश की जनता हिन्दुस्तान को पुराने दौर में ले जाने के लिए कतई तैयार नहीं है।

6. पीएम ने कहा सबका साथ सबका विकास का मंत्र लेकर हम चले थे लेकिन 5 साल के हमारे कार्यकाल को देखकर देश की जनता ने उसमें सबका विश्वास रुपी अमृत जोड़ा है। लेकिन आजाद साहब को कुछ धुंधला नजर आ रहा है, जब तक राजनीतिक चश्मे से सब देखा जायेगा तो धुंधला ही नजर आएगा और इसलिए अगर हम राजनीतिक चश्में उतारकर हम देखेंगे तो देश का भविष्य नजर आएगा।

7. पीएम ने कहा 'राज्य सभा में आपको हमे नीचा दिखाने में आपको आनंद आता है, खुशी की बात है। पिछले 5 साल में बहुत से काम यहां लटके हुए हैं, बहुत से बिल यहां अटके। अब वो बिल फिर से लोकसभा में पास किए जाएंगे, घंटो का समय लगेगा और टैक्सपेयर का पैसा खर्च होगा, हम इसे रोक सकते हैं।

8. एक देश एक चुनाव पर पीएम ने कहा कि चुनाव प्रक्रिया में सुधार होते रहे हैं और होते रहने चाहिए। खुले मन से इस पर चर्चा होनी चाहिए। लेकिन बिना चर्चा के ये कह देना कि हम एक देश-एक चुनाव के पक्ष में नहीं हैं, कम से कम चर्चा तो करनी चाहिए। ये समय की मांग है कि देश में कम से कम मतदाता सूची तो एक हो।

9. पार्टी की जीत पर पीएम ने कहा कि 'इस चुनाव की एक विशेषता है कि ईस्ट, वेस्ट, नॉर्थ, साउथ सभी कोने से बहुमत के साथ बीजेपी और एनडीए जीतकर आया हैं। जो हार गए हैं, जिनके सपने चूर-चूर हो गए वो मतदाताओं का अभिनंदन नहीं कर सकते होंगे।मैं मतदाताओं का सिर झुकाकर कोटि-कोटि अभिनंदन करता हूं।'

10. पीएम मोदी ने कहा कि 'मीडिया के कारण चुनाव जीतें जाते है। मीडिया बिकाऊ है क्या? क्या तमिलनाडु और केरल में भी यही लागू होता है?