उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
PM Narendra Modi
PM Narendra Modi|Social Media
टॉप न्यूज़

बिहार: चमकी पर प्रधानमंत्री मोदी की चुप्पी शंका पैदा करती है !

पीएम मोदी की चुप्पी चर्चा में 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

विश्व मे सर्वाधिक पसंद किए जाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर मुद्दे पर बोलने में मुखर माने जाते है। कभी वह छात्रों को एग्जाम के पहले सलाह मशविरा देते नजर आते हैं, तो कभी मन की बात पर देश की नब्ज टटोलकर वही बात करते है जो देशहित में हो, यहां तक कि शिखर धवन के अंगूठे में फ्रेक्चर आने जे बाद भी नरेंद्र मोदी दुःख जताकर अपनी जिम्मेदारी पूरी करते है।

देश के मुखिया गायब

बिहार में चमकी के कहर का जानलेवा एक पखवारा बीत चुका है, और नरेंद्र मोदी जी का ट्विटर कभी भी शांत नहीं रहता लेकिन इतनी सब कवायद के बाद भी एक अदद ट्वीट भी ,इस बीमारी के बारे में नहीं फूटा, यह भी नहीं कहा जा सकता कि नरेंद्र मोदी जी कोई डॉ नहीं है जिनके देखने से बीमारी गायब हो जाएगी। लेकिन देश के मुखिया होने के नाते आपकी जिम्मेदारी बनती है। जिस से मुंह मोड़कर आपने अपनी प्रभुता में जगह छोड़ने का काम किया है।

सरकार की लापरवाही

बिहार में जब से चमकी का कहर बरसा है, भाजपा और सत्ताधारी पार्टी के तमाम नेताओं के असंवेदनशील कदम जनता के सामने उजागर हो चुके हैं। कोई चमकी के निवारण मीटिंग में भारी मेहनत करके ऊँघने लगता है। तो कोई अस्पताल की मीटिंग में क्रिकेट का स्कोर पूंछ बैठता है।

बच्चों को मरने के लिए छोड़ा गया

बिहार के अस्पतालों में जहां रोज कोई एक बच्चा अपनी सांसे खो देता है। वहीं नेतागण अपनी अलग राय पेश करने से नहीं चूकते , उन्हें लगता है बारिस आने से ये समस्या खत्म हो जाएगी। लेकिन असल बात तो समझ में ही नहीं आती की क्या तब तक बच्चों को मरने दिया जाए। क्या इसके सुरक्षा उपाय नहीं उठाये जा सकते।

बेअसर हुई आयुष्मान योजना

जिस आयुष्मान योजना का इतना ढिंढोरा पीट का प्रचार किया गया, वह योजना भी चमकी के निदान में बेअसर हुई। कई बड़े अस्पताल जहां बच्चो का इलाज जारी है उनका आयुष्मान योजना की लिस्ट में भी नहीं है।

कब मुखर होंगे पीएम मोदी

संवेदनशीलता के आधार पर इस मामले पर प्रधानमंत्री को अपनी चुप्पी तोड़कर बोलना चाहिए जिसकी सारे देश को जरूरत है। देखते हैं नरेंद्र मोदी चुनाव प्रचार की तरह कब मुखर होते हैं।