उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
सर्वदलीय बैठक
सर्वदलीय बैठक|Social Media
टॉप न्यूज़

प्रधानमंत्री मोदी ने शुरू की “एक राष्ट्र-एक चुनाव” पर सर्वदलीय बैठक, जानें किसने क्या कहा

‘सबका साथ-सबका विकास’ के बाद ‘एक राष्ट्र-एक चुनाव’ के मुद्दे पर मोदी सरकार  

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बजट सत्र से पहले आज एक सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इस बैठक में 'एक राष्ट्र एक चुनाव' के मुद्दे को लेकर चर्चा होगी। जिसके लिए प्रधानमंत्री मोदी ने सभी राजनीतिक दलों के अध्यक्षों को इस बैठक में शामिल होने का न्योता दिया है। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री ने सरकार की सबसे महत्वाकांशी योजना पर आज ही से काम शुरू कर दिया। लेकिन तमाम राजनीतिक दलों की इसबारे में क्या राय है ये तो बैठक के बाद ही पता चलेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 'एक राष्ट्र एक चुनाव' मुद्दे पर संसद में बहस करवाना चाहते हैं। इसी कारण उन्होंने आज बैठक बुलाई है। जहां वो अन्य दलों के प्रतिनिधियों से इस बारे में चर्चा करेंगे। हालांकि इस बैठक में कांग्रेस, ममता बनर्जी, मायावती सहित आठ बड़े नेता शामिल नहीं हुए हैं।

बैठक में शामिल नेता

वहीं बिहार के मुख्यमंत्री कुमार, नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला, शिरोमणि अकाली दल के नेता सुखबीर सिंह बादल, बीजेडी अध्यक्ष और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, वाईएसआरसीपी के जगन मोहन रेड्डी समेत कई अन्य दलों के नेता बैठक में मौजूद हैं।

कांग्रेस की बैठक से दुरी

कांग्रेस ने सर्वदलीय बैठक में शामिल नहीं होने का कारण बताते हुए कहा कि "एक राष्ट्र, एक चुनाव प्रस्ताव पर चर्चा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस पार्टी बैठक में भाग नहीं ले रही है। कांग्रेस ने कहा कि मोदी सरकार अपनी योजना हम पर नहीं थोप सकती।"

मायावती ने कहा चुनाव मुद्दा नहीं

वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि "किसी भी लोकतांत्रिक देश में चुनाव कभी कोई समस्या नहीं हो सकती है और न ही चुनाव को कभी धन के व्यय-अपव्यय से तौलना उचित है। देश में ’एक देश, एक चुनाव’ की बात वास्तव में गरीबी, महंगाई, बेरोजबारी, बढ़ती हिंसा जैसी ज्वलन्त राष्ट्रीय समस्याओं से ध्यान बांटने का प्रयास व छलावा मात्र है।"

अखिलेश यादव की बैठक से दुरी

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव भी इस बैठक में शामिल नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने जनता से जो वादे किये हैं उनपर ध्यान दें । हमें उम्मीद है कि वे उन वादों को पूरा करने पर अधिक काम करेंगे। 'वन नेशन वन इलेक्शन' जैसे निर्णय पर सभी दल सहमत नहीं हो सकते।

इन दलों ने बैठक से बनाई दुरी

कांग्रेस के अलावा, कई अन्य विपक्षी दलों के नेताओं के भी मोदी द्वारा बुलाई गई बैठक में भाग नहीं लिया । इनमें द्रमुक अध्यक्ष एम.के. स्टालिन, तेलुगू देशम पार्टी के प्रमुख एन. चंद्रबाबू नायडू, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल हैं।