उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
West Bengal Violence
West Bengal Violence|google
टॉप न्यूज़

बड़ा सवाल: क्या अब दीदी से नहीं संभल रहा बंगाल ?

पश्चिम बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के बाद हिंसा इतनी बढ़ गयी कि अब थमने का नाम नहीं ले रही है आने वाले कुछ घंटे बंगाल के लिए बेहद ही ज्यादा संवेदनशील होने वाले हैं। 

Puja Kumari

Puja Kumari

लोकसभा चुनाव (Loksabha election) के बाद लगातार जिस तरह से बंगाल में खूनी खेल देखने को मिल रहा है इससे तो साफ समझ में आ गया है कि राज्य की स्थिति काफी गंभीर हो गई है। जहां एक तरफ बीजेपी (BJP) ने बंगाल में कुल 28 में से 18 सीटें हासिल की वहीं दूसरी ओर ममता का पारा और भी ज्यादा हाई हो गया। इस हिंसा की शुरूआत चुनाव के दौरान हुई थी जो लगातार बढ़ती ही चली गई, वैसे भाजपा को इस बात का अनुमान हो चुका था कि अगर बंगाल (West Bengal) में उनके पक्ष में फैसला आता है तो उनके कार्यकर्ताओं के लिए जोखिम बढ़ सकता है और हुआ भी कुछ ऐसा ही।

चुनावी नतीजे आने के बाद से ही ममता (Mamta banrjee) एक-एक करके अपनी सारी मर्यादाएं भी पार करने लगी, न ही वो मोदी को देश का प्रधानमंत्री मानने को तैयार है और न ही सरकार के किसी भी फैसले का पालन करने को, इतना ही नहीं ममता तो केंद्र सरकार किसी भी मीटिंग में भी शामिल नहीं हो रही है। ऐसे में ममता का ये उग्र व्यवहार बंगाल की जनता को क्षति पहुंचा रहा है।

 West Bengal Violence
West Bengal Violence
google

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में बीजेपी व टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच की हिंसा अब इतनी बढ़ गई की बंगाल खून से रंगने लगा। बीजेपी के कई कार्यकर्ता की इस दौरान हत्या भी हुई है। इस हिंसा ने देश में तनाव की स्थिति को उत्पन्न कर दिया है और इसी विषय पर चर्चा करने के लिए आज सुबह अमित शाह और बंगाल के राज्यपाल के बीच बैठक हुई। इस हिंसा (violence) का दोनों पार्टियां एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रही हैं, वहीं इसका विरोध करने के लिए भाजपा के कार्यकर्ताओं ने आज बंगाल में ‘ब्लैक डे’ (Black Day) मनाया।

समझ तो ये नहीं आ रहा है कि ममता व मोदी (Mamta banrjee Vs Modi) के बीच सियासत की ये लड़ाई आखिर इतनी क्यों बढ़ गई ? क्या ममता से अब बंगाल नहीं संभल रहा है या फिर ममता को ये ज्ञात हो गया है कि बंगाल में अब उनकी एक नहीं चलेगी ? जाहिर सी बात है अपनी हार को बर्दाश्त न कर पाने के कारण ममता ने पूरे बंगाल में ऐसा माहौल बना दिया कि लोग डर से बंद हो जाएं ताकि आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को यहां एक भी मौका न मिल पाए। वैसे इन सबके पीछे एक कारण और भी नजर आ रहा है, वहां की सरकार को समझ आ गया है कि अब बंगाल में "ममता ब्रांड" (Mamta Brand) खत्म होता जा रहा है जिसकी वजह से ममता बौखला गई हैं।

 West Bengal Violence
West Bengal Violence
google

राजनीति के जानकारों का कहना है कि जैसी परिस्थितियां बंगाल की हैं उससे गृहयुद्ध होने की भी संभावना बन रही है। माना जा रहा है कि इसपर काबू पाने के लिए बंगाल में राष्ट्रपति शासन (President's rule) लागू किया जा सकता है। देखा जाए तो बंगाल की हालत जम्मू कश्मीर (Jammu kashmir) की तरह हो गई है। आने वाले कुछ घंटे या दिन बंगाल के लिए काफी नाजुक होने वाले हैं देखना ये हैं कि केंद्र में विराजमान मोदी व शाह की जोड़ी इस विषम व दयनीय परिस्थिति से कैसे निपटती है ताकि जल्द से जल्द बंगाल की जनता चैन की सांस ले सके।