उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
राधाकृष्णन विखे पाटिल, देवेंद्र फडणवीस से मिले
राधाकृष्णन विखे पाटिल, देवेंद्र फडणवीस से मिले|Twitter
टॉप न्यूज़

कांग्रेस में बगावत: पार्टी से इस्तीफा देते ही देवेंद्र फडणवीस से मिले राधाकृष्णन विखे पाटिल

कर्नाटक से लेकर महाराष्ट्र तक कांग्रेस में फुट। 

Uday Bulletin

Uday Bulletin

लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस दिन-ब-दिन बिखरती जा रही है। कई राज्यों के पार्टी अध्यक्ष ने अपना इस्तीफा राहुल गांधी को पहले ही भेज दिया है और आज महाराष्ट्र कांग्रेस कमिटी की ओर से कांग्रेस को बड़ा झटका मिला है। कांग्रेस के दिग्गज नेता और महाराष्ट्र विधानसभा के पूर्व विपक्षी नेता राधाकृष्ण विखे-पाटिल ने अहमदनगर सीट से विधायक के रूप में अपना इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा देने के कुछ ही घंटों बाद राधाकृष्ण पाटिल बीजेपी नेता और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिले। इसके बाद उनके बीजेपी में शामिल होने वाली अटकले साफ़ हो गई।

कांग्रेस में अंदरूनी कलह

राधाकृष्णन विखे पाटिल कांग्रेस के पुराने नेता हैं। महाराष्ट्र की राजनीति में उनका बड़ा नाम है। पार्टी से इस्तीफा देते हुए उन्होंने कहा मुझे पार्टी आलाकमान से कोई शिकायत नहीं है। उन्होंने मुझे मौका दिया। विपक्ष का नेता बनाया। मैंने भी अच्छे से राजनीति की। काफी काम किया लेकिन बीते कुछ समय से हालात ऐसे हो गए कि मुझे इस्तीफा देना पड़ा। मैंने अपने बेटे के लिए भी प्रचार नहीं किया था। मुझे मजबूर होकर इस्तीफा देना पड़ रहा है। जिसके बाद वो देवेंद्र फडणवीस से मिले।

चुनाव से पहले दल-बदल

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले उनके बेटे सुजय विखे-पाटिल ने कांग्रेस छोड़कर और परिवार के पारंपरिक गढ़ अहमदनगर से आम चुनाव जीतकर सबको चौका दिया था। पिता-पुत्र की जोड़ी विखे-पाटिल के अलावा, कांग्रेस के कई अन्य नेता हैं जो भाजपा में शामिल होना चाहते हैं क्योंकि राज्य में अक्टूबर के आसपास महत्वपूर्ण विधानसभा चुनाव होने हैं।

कई राज्यों का यही हाल

लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस के अंदर बगावत के सुर-फुट रहे हैं। मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, कर्नाटक सहित सभी राज्यों में यही हाल है।

  • मध्य प्रदेश के गुना लोकसभा सीट से हार जाने के बाद कांग्रेस नेता ज्योतिराज सिंधिया ने हार का ठीकरा प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ पर फोड़ते हुए कहा मुख्यमंत्री अपना काम अच्छे से नहीं कर रहे। वे सिर्फ अपने बेटे को जीतने में लगे थे।
  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने बेटे की हार का जिम्मेवार राज्य के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को ठहराया उन्होंने कहा सचिन ने ही जोधपुर सीट से चुनाव लड़ने की सलाह दी थी।
  • महाराष्ट्र के बागी नेता अब्दुल सत्तार ने कहा, कांग्रेस के राज्य नेतृत्व से कई विधायक नाराज हैं। पार्टी के 8 से 10 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं वो जल्द ही बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।
  • कर्नाटक कांग्रेस का भी यहीं हाल हैं। कर्नाटक कांग्रेस के नेता रोशन बेग कहते हैं कि पार्टी का राज्य नेतृत्व नेताओं के साथ दोहरा बर्ताव कर रहा है। आखिर इसे कब तक नज़रअंदाज किया जा सकता है। राज्य में जो हो रहा है उसे मूक दर्शक बन कर कब तक देख सकते हैं। रामलिंगा रेड्डी जैसे नेता को पार्टी से निकला जा रहा है। अगले महीने की 10 तारीख को सरकार गिर जाएगी।
  • वहीं गुजरात कांग्रेस भी इस छूत से अछूती नहीं रह गई है। 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस के एक विधायक अल्पेश ठाकोर ने अब तक इस्तीफा दे दिया है। उनका कहना है आगामी विधानसभा चुनाव से पहले 17 विधायक पार्टी छोड़ सकते हैं।
  • एक तरह कांग्रेस जहां राहुल गांधी को मानाने में जुटी है वहीं दूसरी तरफ राज्यों में बगावत बढ़ती जा रही है।