उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
मसूद अजहर
मसूद अजहर |google
टॉप न्यूज़

जानिए, मसूद अजहर के वैश्विक आतंकी घोषित होने से भारत पर क्या पड़ेगा प्रभाव 

चीन के लगातार अड़ंगा लगाने के बावजूद भारत को मिली बड़ी कामयाबी 

Puja Kumari

Puja Kumari

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना आतंकवादी मसूद अजहर आज वैश्विक आतंकवादी के रूप में घोषित हो ही गया। चीन के लगातार अड़ंगा लगाने के बावजूद भी यूएन ने भारत के सबसे बड़े खतरे को समझ लिया था और इसे अंतरराष्ट्रीय रूप से आतंकी घोषित कर दिया। भारत के इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कई देशों (फ्रांस, ब्रिटेन, अमेरीका) ने भी उसका साथ दिया। इस घोषणा के होने के बाद यूएन में भारत के राजदूत सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि इसके लिए सभी ने मिलकर पहल की और भारत के लिए यह एक बड़ी सफलता है।

14 अप्रैल को हुए पुलवामा हमले के बाद से ही भारत लगातार इसी प्रयास में लगा हुआ था और ऐसा होना भारत के लिए बेहद ही ज्यादा जरूरी था। ये भी बता दें कि भारत के साथ-साथ फ्रांस कई सालों से इसी कोशिश में लगा था, जिसके बाद फ्रांस सरकार ने मसूद पर 15 मार्च को ही प्रतिबंध लगा दिया था। फ्रांस की कोशिशों पर आज सुरक्षा परिषद ने भी मुहर लगा दी।

मसूद अजहर
मसूद अजहर
google

सबसे बड़ा सवाल लोगों के मन में ये आ रहा है कि मसूद पर बैन लग जाने से उस पर क्या असर पड़ेगा

मसूद पर वैश्विक आतंकी का ठप्पा लगने के बाद से वो यूएन के किसी भी सदस्य देश की यात्रा नहीं कर पाएगा। इसके अलावा उसके सभी चल अचल संपत्ति को जप्त कर लिया जाएगा। इतना ही नहीं उसकी संस्थाओं के आर्थिक संसाधनों को भी ब्लॉक कर दिया जाएगा ताकि किसी भी देश के लोग उसकी मदद न कर सकें।

मसूद अजहर
मसूद अजहर
google

भारत के लिए ये फैसला होना क्यों था आवश्यक

यह तो आप भी समझ गए होंगे कि मसूद न सिर्फ भारत के लिए बल्कि पूरे विश्व के लिए खतरा बन चुका था और इस खतरे को पाकिस्तान में पनाह मिली हुई थी जिसका फायदा उठाकर ये कई देशों में आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम दे रहा था।

याद करें, ये वही मसूद है जिसे भारत ने 1994 में उसे श्रीनगर से गिरफ्तार किया गया था और फिर इसे छुड़ाने के लिए आतंकवादियों ने प्लेन को हाईजैक किया था। यात्रियों की जान बचाने के लिए मजबूरन भारत को इसे छोड़ना पड़ा और उसी के बाद से वह भारत के लिए चिंता का विषय बन गया।

लेकिन ये चुप कहां बैठने वाला था, इसके बाद से ही मसूद ने भारत पर कई सारे हमले करवाएं जिसमें संसद भवन पर हुए हमले के अलावा पठानकोट और पुलवामा हमला भी शामिल है। भारत के ये उन आतंकी हमलों में से एक है जिससे पूरा विश्व सहम गया था लेकिन अब मसूद के अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित हो जाने के बाद पूरा विश्व एकजुट होकर इसे खत्म करेगा।