उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
 पीएम मोदी ने साध्वी प्रज्ञा का बचाव किया 
पीएम मोदी ने साध्वी प्रज्ञा का बचाव किया |उदय बुलेटिन 
टॉप न्यूज़

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पर पहली बार आया पीएम मोदी का रिएक्शन, टिकट देने का कारण भी बता दिया 

साध्वी प्रज्ञा के विवादित बयान पर हुई चौतरफा निंदा के बाद भाजपा ने इसे भावनात्मक बयान बताया है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

भारतीय जनता पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा को मध्य प्रदेश के भोपाल से मैदान में उतारने का फैसला लिया है। वैसे तो मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल को साम्प्रदायिक सदभाव और गंगा-जमुनी तहजीब के लिए पहचाना जाता है, मगर भारतीय जनता पार्टी द्वारा साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद यहां 'हिंदुत्व' चुनावी मुद्दा बनने लगा है। एक तरफ कांग्रेस जहां साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ खुल कर बोलने में संकोच कर रही है वही दूसरी तरफ बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी भोपाल लोकसभा सीट से मालेगांवब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा को टिकट देने के फैसले का बचाव कर रहे हैं, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा "साध्वी प्रज्ञा उन लोगों के लिए प्रतीक हैं जिन्होंने हिन्दुओं को आतंकवादी बताया है। पीएम ने टाइम्स नाउ को दिए इंटरव्यू में कहा "वह कांग्रेस को कड़ी चुनौती देंगी। बता दें प्रज्ञा को भोपाल से कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ उतरा गया है।

PM Modi
PM Modi
Google

प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा "कांग्रेस भगवा को आतंकवाद मानती है। प्रज्ञा को उतारने का फैसला उन लोगों के लिए करारा जवाब है। जिन्होंने पूरे धर्म और संस्कृति को आतंकवाद से जोड़ा है।" ये सारी बातें पीएम मोदी ने टाइम्स नाउ को दिए इंटरव्यू में कहीं हैं।

दरअसल पीएम मोदी साध्वी प्रज्ञा के बचाव में इसलिए उतरना पड़ा क्योंकि साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने मुंबई एटीएस के प्रमुख रहे 26/11 के शहीद हेमंत करकरे पर प्रताड़ना का आरोप लगाया था और यह कहा था कि उन्होंने करकरे को 'श्राप दिया था, इसलिए वह आतंकवादियों का शिकार बने' पर देश ही नहीं, प्रदेश में भी तीव्र प्रतिक्रिया हुई है। प्रज्ञा के इस बयान के बाद उनकी चौतरफा निंदा हो रही थी, जिसके बाद भाजपा ने इसे भावनात्मक तौर पर दिया गया बयान बताया है। मामले को बढ़ता देख कर साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने शुक्रवार शाम को खुले मंच से इस बयान के लिए माफी माँगा और अपना बयान वापस ले लिया।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर
साध्वी प्रज्ञा ठाकुर
IANS

साध्वी के बयान पर प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने एक बयान जारी कर कहा, "हेमंत करकरे को लेकर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बयान को अमानवीय अत्याचारों से उपजी भावुकता में दिया गया वक्तव्य ही समझना चाहिए, क्योंकि उनके ऊपर बेहद संगीन अत्याचार हुए हैं। वह मौत के मुंह से निकल आई है।"

उन्होंने कहा, "भाजपा का मत बहुत स्पष्ट है कि जो लोग देश के लिए शहीद होते हैं, उन्हें सर्वोच्च सम्मान दिया जाना हमारा राष्ट्रधर्म है। करकरे आतंकवादियों से बहादुरी से लड़ते हुए शहीद हुए थे।"

साध्वी प्रज्ञा का हेमंत करकरे को लेकर दिया गया बयान इस समय सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, इस पर प्रतिक्रियाएं भी आ आई।

प्रज्ञा के बयान पर राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार को ट्वीट कर बगैर किसी का नाम लिए कहा, "जिन लोगों ने आतंकवाद से लड़ते हुए अपने देश की रक्षा के लिए शहादत दी है, सीने पर गोलियां खाई हैं, उनकी शहादत का अपमान करने का हक देश में किसी को नहीं है। एक तरफ आतंकवाद व शहीदों के नाम का अपने राजनैतिक फायदे के लिए उपयोग और दूसरी ओर ऐसे बयान? यह दोहरा चरित्र नहीं चलेगा।"

राज्य सरकार के मंत्री और दिग्विजय सिंह के पुत्र जयवर्धन सिंह ने कहा, "हेमंत करकरे ने इस देश के लिए बलिदान दिया है। उनके बलिदान और निष्ठा को कलंकित करना शर्मनाक है। सत्ता की ताकत से सत्य को कुछ देर के लिए तो रोका जा सकता है, लेकिन अंत में सत्य और इंसानियत की ही जीत होगी।"

26 नवंबर, 2008 को मुंबई में आतंकवादियों ने हमला किया था। इन आतंकवादियों का मुकाबला करते हुए हेमंत करकरे शहीद हुए थे।