उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी|Twitter-Congress
टॉप न्यूज़

लोकसभा चुनाव: वायनाड से भाईचारा तो अमेठी को क्या मुंह दिखाएंगे राहुल गांधी 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज केरल के वायनाड लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल करने जा रहे हैं जिसपर विपक्षी दल बीजेपी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए अमेठी से डर के भागने का आरोप लगाया है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज अपनी दूसरी संसदीय सीट केरल के वायनाड से नामांकन दाखिल कर दिया है। यहां 23 अप्रैल को लोकसभा चुनाव होना तय है। राहुल गांधी को वायनाड लोकसभा सीट से मुकाबला देने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने तुषार वेलापल्ली को मैदान में उतारा है ,तुषार वेलापल्ली बीजेपी की सहयोगी पार्टी भारत धर्म जन सेना के नेता है।

कांग्रेस पार्टी के गढ़ अमेठी और वायनाड लोकसभा सीट में चुनाव के अलग-अलग मुद्दे हैं। उत्तर प्रदेश की अमेठी जहां साम्प्रदायिकता का आखाड़ा है वहीं केरल के वायनाड में मतदाता साम्प्रदायिक नहीं बल्कि राजनीति मुद्दों पर मतदान करते हैं।

वायनाड में 49 फीसदी लोग हिन्दू , 28 फीसदी मुस्लमान और 23 फीसदी लोग ईसाई हैं। इसलिए बीजेपी कांग्रेस पर आरोप लगा रही है कि कांग्रेस अमेठी में हार के डर से वायनाड भाग रही है और वहां अल्पसंख्यकों के सहारे चुनाव जीतने की तैयारी कर रही है। वहीं केरल के लोग साम्प्रदायिक मुद्दों पर वोट नहीं करते।

बीजेपी का कांग्रेस पर वार

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के वायनाड से नामांकन दाखिल करने से पहले उन पर निशाना साधा है। स्मृति ईरानी ने कहा कि, राहुल गांधी पिछले 15 सालों से अमेठी से चुनाव जीतते आये हैं और अब राहुल गांधी कहीं और से चुनाव लड़ रहे हैं। ये अमेठी की जनता का अपमान है। अमेठी की जनता यह बर्दाश नहीं करेगी।

अमेठी प्रियंका के लिए सुरक्षित

राहुल गांधी अमेठी और वायनाड दो लोकसभा सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। वायनाड में राहुल का मुकाबला अपनी सहयोगी लेफ्ट पार्टी से है क्यों कि बीजेपी यहां तीसरे नंबर की पार्टी है । वहीं अमेठी में राहुल का मुकाबला फिर से बीजेपी नेता स्मृति ईरानी से होगा, लेकिन राहुल अमेठी से जीत के लिए आश्वस्थ हैं। कांग्रेस पार्टी के जानकारों का मानना है कि अगर राहुल दोनों सीटों से जीत जाते हैं तो वे वायनाड को अपना संसदीय क्षेत्र चुनेगें और अमेठी की सीट प्रियंका गांधी के लिए खाली छोड़ देंगे। जिससे यह सीट उनके परिवार में ही रह जाएगी। हालांकि कांग्रेस के अंदर इस बात की भी चर्चा है कि प्रियंका वाराणसी से चुनाव लड़ सकती है। ऐसे में उनका मुकाबला प्रधानमंत्री मोदी से होगा। जो वाकई दिलचस्प होगा।

कांग्रेस की दो सीटों से चुनाव लड़ने का इतिहास

राहुल गांधी उत्तर प्रदेश की अमेठी और केरल के वायनाड की सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। लेकिन कांग्रेस के 134 सालों के इतिहास में ऐसा पहले भी कई बार हुआ है कि किसी नेता ने दो सीटों से चुनाव लड़ा हो। 1980 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने उत्तर प्रदेश की रायबरेली और तेलंगाना की मेटक सीट से चुनाव लड़ा था और दोनों ही जगहों पर जीत हासिल की थी। 1999 में भी UPA चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने अपने पहले लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की अमेठी और कर्नाटक की वेल्लारी सीट से चुनाव लड़ा था। सोनिया को भी दोनों सीटों में जीत मिली थी। और अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इसी राह पर आगे बढ़ रहे हैं।