उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
शी जिनपिंग से डर गए मोदी  
शी जिनपिंग से डर गए मोदी  |Google
टॉप न्यूज़

मोदी कमजोर और डरपोक हैं, चीनी राष्ट्रपति के सामने घुटने टेक दिए- रागा 

राहुल ने कहा, शी जिनपिंग से डर गए मोदी, भाजपा ने किया पलटवार  

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चीन द्वारा जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) प्रमुख आतंकी मसूद अहजर का नाम वैश्विक आतंकवादी सूची में डाले जाने से रोके जाने के एक दिन बाद मोदी पर हमला बोला। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से 'भयभीत' व 'कमजोर' बताया। इसे लेकर अब भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया शुरू कर दी है।

राहुल गांधी ने ट्विटर पर कहा, "कमजोर मोदी शी से डर गए। चीन के भारत के खिलाफ कार्य पर उनके मुंह से एक भी शब्द नहीं निकला। नमो की चीन की कूटनीति है: गुजरात में शी के साथ झूला झूलना, दिल्ली में शी को गले लगाना व चीन में शी के आगे झुक जाना।"

संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध समिति बुधवार को चीन द्वारा प्रस्ताव को रोके जाने की वजह से जेईएम प्रमुख को वैश्विक आतंकवादी नामित करने का फैसला नहीं कर सकी। भारत ने इस नतीजे पर निराशा जाहिर की।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी की टिप्पणी पर आपत्ति जाहिर की।

उन्होंने कहा, "राहुल गांधी के ट्वीट से ऐसा प्रतीत होता है कि वह चीन के कदम से खुश हैं। भारत को पीड़ा में देखकर वह खुश क्यों होते हैं।" आतंकवादी मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने पर आज चीन को छोड़कर पूरी दुनिया भारत के साथ खड़ी है। ये एक तरह से भारत की कूटनीतिक जीत है।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि, राहुल गांधी से मेरा सवाल है कि 2009 में यूपीए के समय में भी चीन ने मसूद अजहर पर यही टेक्निकल ऑब्जेक्शन लगाया था, तब भी आपने ऐसा ट्वीट किया था क्या?

तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की 1960 की कूटनीति का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, "यह आपकी (कांग्रेस) विरासत का परिणाम है कि चीन सुरक्षा परिषद का एक सदस्य है।"

बीजेपी ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि, UNSC में चीन स्थाई सदस्य नहीं होता, अगर आपके दादा ने भारत की अवहेलना कर चीन को यह 'उपहार' नहीं दिया होता। भारत आपके परिवार की सभी गलतियों का भुगतान कर रहा है। आश्वस्त रहें, भारत आतंक के खिलाफ हर लड़ाई जीत जाएगा। इसे पीएम मोदी पर छोड़ दें। तब तक आप गुप्त रूप से चीनी दूतों के साथ मंत्रणा करते रहें।

एजेंसी