उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा|Google
टॉप न्यूज़

आतंकी देश पाकिस्तान पर चीन का प्यार जगजाहिर, मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा   

आतंकी मसूद अजहर को भारत एक बार फिर वैश्विक आतंकवादी घोषित करते करते रहे गया। भारत की कोशिशों को चीन ने बड़ा झटका दिया है। 

Uday Bulletin

Uday Bulletin

जैश ए मोहमद का सरगना आतंकी मसूद अज़हर को चीन ने अपनी वीटो पवार का इस्तेमाल करते हुए वैश्विक आतंकी घोषित होने से बचा लिया। चौथी बार चीन के भारत की कोशिशों को तगड़ा झटका दिया है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रेजॉल्यूशन 1267 के तहत भारत ने अपील की थी कि मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किया जाये। लेकिन चीन के वीटो पवार की वजह से भारत की कोशिश नाकाम रही।

14 फ़रवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद जैश-ए-मोहम्मद का सरगना आतंकी मसूद अजहर ने इस हमले की जिम्मेवारी ली थी। इसमें CRPF के 45 से अधिक जवान मरे गए थे। जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ‘‘1267 अल कायदा सैंक्शन्स कमेटी'' के तहत 27 फ़रवरी को फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने मसूद अज़हर को आतंकवादी घोषित करने की अपील की थी।

मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
Google

चीन के किया वीटो का इस्तेमाल

UN ने जब इस पर कार्यवाई शुरू की तो, घोषणा से ठीक पहले चीन ने इस प्रस्ताव पर तकनीकी रोक लगा दी। चीनी राजनयिक ने कहा कि "हमने (चीन) इस प्रस्ताव की जांच करने के लिए और कुछ समय मांगा है। चीन द्वारा लगाया यह रोक छह महीनों के लिए वैध है और जिसके बाद तीन महीने के लिए और बढ़ाया जा सकता है।

मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
Google

भारतीय विदेश मंत्रालय ने क्या कहा

चीन के रोक लगाए जाने के बाद विदेश मंत्रालय ने निराशा जताई है। विदेश मंत्रालय ने कहा "हम चीन के इस रवैये से निराश है, लेकिन हम सारे विकल्पों पर ध्यान देते हुए भारतीय नागरिकों की रक्षा के लिए आतंकवादियों को न्याय के कठघरे में खड़ा करेंगे। विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन के प्रयास के लिए आभारी हैं। जिन्होंने यह प्रस्ताव लाया। साथ में सुरक्षा परिषद के अन्य सदस्यों और गैर सदस्यों के भी आभारी हैं जिन्होंने इस कोशिश में साथ दिया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा "अगर इमरान खान इतने अधिक संवेदनशील हैं तो, मसूद अज़हर को हमें सौंप दें।

मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
Google

US ने दी चीन को चेतावनी

मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकी घोषित होने से बचाने के लिए अमेरिका ने चीन को चेतावनी दी है। अमेरिकी राजनयिक ने कहा कि, चीन के इस बर्ताव के बाद दूसरे सदस्यों को 'एक्शन' लेने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। अमेरिकी राजयनिक ने कहा 'अगर बीजिंग आतंकवाद से लड़ने के लिए गंभीर है तो उसे पाकिस्तान और अन्य देशों के आतंकियों का बचाव नहीं करना चाहिए।'

सोशल मीडिया में उठ रही है चीनी प्रोडक्ट बायकॉट करने की मांग

चीन द्वारा आतंकी मसूद अज़हर के बचाव के बाद भारत की सोशल मीडिया में चीनी प्रोडक्ट बायकॉट करने की मांग उठ रही है। सोशल में कहा जा रहा है कि, चीन ने आतंकी मसूद अजहर का समर्थन करके एक बार फिर साबित कर दिया है कि, भारत उसके लिए महत्वपूर्ण नहीं है। सभी ब्यापारी भाईयों से अनुरोध है कि चीन से किए गए सारे आर्डर कैंसिल करें । चीन को संदेश दे कि आज का भारत नया भारत है, जो किसी के सामने झुकने वाला नहीं है।

मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
मसूद अजहर पर चौथी बार लगा अड़ंगा
Google

चीन क्यों दे रहा है मसूद अज़हर और पकिस्तान का साथ

चीन पाकिस्तान का साथ अपने फायदे के लिए दे रहा। और इसमें भी कोई दोमत नहीं की पाकिस्तान और चीन पक्के दोस्त हैं। दरअसल चीन दक्षिण एशिया में अपने दोस्त पाकिस्तान का बचाव करने से ज्यादा अपने स्वार्थ को साधने में लगा हुआ है। चीन की महत्वाकांक्षी परियोजना चाइना-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) बेल्ट ऐंड रोड (BRI) का अहम हिस्सा है। जिसके तहत चीन सड़क, रेल और समुद्रीय मार्ग से एशिया, यूरोप और अफ्रीका में अपनी पहुंच बनाना चाहता है। चीन को यह डर है कि अगर वो भारत का साथ देगा तो उसकी यह परियोजना अधर में लटक जाएगी साथ ही पाकिस्तान में काम कर रहे चीन के 10000 कर्मियों की जान पर भी खतरा मंडरा सकता है।