उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Gujarat Congress CWC Meeting
Gujarat Congress CWC Meeting|Twitter-Congress
टॉप न्यूज़

गांधीनगर: प्रियंका गांधी ने 7 मिनट के भाषण में किए 7 सवाल, विरोधी सोच कर दें जवाब 

प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi ) ने कांग्रेस (Congress) पार्टी ज्वाइन करने के बाद गुजरात के गांधीनगर में पहली बार रैली को संबोधित किया। 

Ajeet Bhatnagar

Ajeet Bhatnagar

कांग्रेस महासचिव बनने के बाद प्रियंका गांधी ने आज पहली बार देश की जनता को संबोधित किया और अपने भाषण में प्रधानमंत्री मोदी की जम कर आलोचना की। प्रियंका ने अपने मंच से देशभक्ति की नई परिभाषा देते हुए कहा "जागरूकता से बड़ी को देश भक्ति नहीं है।" प्रियंका गांधी ने गुजरात के गांधी नगर में रैली को संबोधित किया। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की कमान संभालने के बाद प्रियंका का यह पहला भाषण है। आइए जानते हैं प्रियंका गांधी ने अपने भाषण में और क्या क्या कहा -

प्रियंका गांधी ने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा -

  1. मैं भाषण नहीं देती, आप से दो शब्द कहती हूं जो मेरे दिल में हैं। मैं पहली बार कांग्रेस की बैठक में आई हूं। पहली बार गुजरात आई हूं। पहली बार साबरमती के उस आश्रम में गई जहां से देश की आज़ादी की लड़ाई शुरू हुई। आश्रम में पेड़ के नीचे बैठ ऐसा लगा कि आंसू आने वाले हैं। बैठे हुए मन में ये बात आई कि ये देश प्रेम, आपसी भाव और सद्भावना से बना है। इससे बड़ी कोई शक्ति नहीं है कि आप जागरूक बनें।
  2. मैंने महसूस किया कि यह देश प्रेम और सद्भाव से बना है। देश की मौजूदा स्थिति से दुखी हूं। जागरूक होने से बेहतर राष्ट्रवाद नहीं है। आपका वोट आपका हथियार है।
  3. अवांछित मुद्दों से विचलित न हों। आपको यह महसूस करना चाहिए कि आपको क्या लाभ होगा, कैसे आपको रोजगार मिलेगा, कैसे महिलाएं सुरक्षित रह सकती हैं। मैं आपसे सावधानी के साथ अपना निर्णय लेने की अपील करता हूं।
  4. मैं आपसे कहती हूं की सोचे मोदी सरकार की तरफ से दो करोड़ रोज़गार का वचन दिया गया था, उसका क्या हुआ। 15 लाख जो खाते में आने वाले थे वो कहां गए।
  5. हमारी संस्थाएं नष्ट की जा रही हैं, जहां भी देखिये नफरत फैलायी जा रही है।
  6. जो अपनी फितरत की बात करते हैं उन्हें आप बताईए कि देश की फितरत क्या है।
  7. इस चुनाव में आपके सामने कई मुद्दे उठाए जाएंगे लेकिन आप कि जागरूकता ही इस देश कि भक्ति है।
  8. मैं आपसे आग्रह करना चाहती हूं कि इस बार सोच समझकर निर्णय लें।