उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
राफेल की फाइलें चोरी होने पर राहुल का प्रेस कांफ्रेंस
राफेल की फाइलें चोरी होने पर राहुल का प्रेस कांफ्रेंस|IANS
टॉप न्यूज़

राफेल की फाइल चोरी पर बोले राहुल: या तो चौकीदार चोर है, या देश चोरों के हाथ में है !

राहुल ने कहा प्रधानमंत्री ने राफेल की डिलेवरी में देरी कराई, अपने दोस्त की जेब में 30 हजार करोड़ रुपये डाले .

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: बीते दिनों राफेल सौदे से जुड़े दस्तावेजों को लेकर मोदी सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में जो दलीलें पेश की गई उसके बाद एक बार फिर राफेल सौदा हैडलाइन बन चुका है। केंद्र सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में कहा गया कि राफेल सौदे से जुड़े कुछ अहम दस्तावेज रक्षा मंत्रालय से चोरी हो गए हैं। जिसके बाद मोदी सरकार की आलोचना शुरू हो गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज प्रेस कांफ्रेंस कर प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री पर निशाना साधा है।

राफेल घोटाले पर राहुल गांधी ने क्या कहा, यहां सुने

रक्षा मंत्रालय से राफेल सौदे से संबंधित दस्तावेजों की चोरी की जांच के लिए केंद्र की धमकी के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सामानांतर बातचीत करने और भारत को फ्रांसीसी जेट की डिलीवरी में देरी के लिए जांच की मांग की।

राहुल ने यहां मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि चोरी हुए दस्तावेज स्पष्ट रूप से बताते हैं कि जेट की देरी और उसकी कीमत बढ़ने के लिए प्रधानमंत्री जिम्मेदार थे।

राहुल ने कहा, "सरकार अब कहती है कि वह राफेल फाइलें चोरी होने के लिए मीडिया की जांच करेगी। लेकिन जिसने (मोदी) समानांतर बातचीत की, उसकी जांच क्यों नहीं होगी।"

उन्होंने कहा, "अगर दस्तावेज चोरी हो गए हैं तो इसका मतलब है कि वे प्रामाणिक हैं और वे स्पष्ट रूप से बताते हैं कि प्रधानमंत्री द्वारा समानांतर बातचीत की गई थी। जेट की कीमत बढ़ाई गई थी और जेट की डिलीवरी में देरी हुई थी।"

राहुल ने कहा, "दस्तावेजों के बारे में जांच होने दें लेकिन साथ ही राफेल (सौदे) में प्रधानमंत्री की भूमिका की भी जांच करें।"

राफेल जेट की खरीद पर 'क्लीन चिट' देने के 14 दिसंबर के फैसले पर सर्वोच्च न्यायालय में पुनर्विचार याचिका की सुनवाई के दौरान दी गई केंद्र की दलीलों का जिक्र करते हुए कहा राहुल ने कहा कि सरकार और इसकी मशीनरी का एकमात्र उद्देश्य चौकीदार को बचाना है।

संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) द्वारा जांच की कांग्रेस पार्टी की मांग को खारिज करने पर राहुल ने सवाल किया कि मोदी सौदे की जांच से क्यों डर रहे हैं।

दस्तावेजों का हवाला देते हुए राहुल ने कहा कि भारतीय वार्ता दल ने स्पष्ट रूप से कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने उद्योगपति मित्र को सौदे में 30,000 करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाने के लिए समानांतर बातचीत की थी।