उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान
विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान |IANS
टॉप न्यूज़

Video: पैराशूट से उतरने के बाद अभिनंदन ने लगाया था “भारत जिंदाबाद” के नारे 

भ्रम फैलाकर विंग कमांडर अभिनंदन बर्धमान को पाकिस्तानी क्षेत्र से पकड़ा गया था। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

इस्लामाबाद: विंग कमांडर अभिनंदन बर्धमान पाकिस्तानी क्षेत्र में पैराशूट से उतरते वक्त सही-सलामत थे। पाकिस्तान के समाचार पत्र डॉन में गुरुवार को प्रकाशित विस्तृत रिपोर्ट से यह जानकारी मिली।

रिपोर्ट में प्रत्यक्षदर्शी मोहम्मद रज्जाक चौधरी (58) का हवाला दिया गया है, जो पाकिस्तान में होर्रान गांव स्थित अपने घर के आंगन में खड़ा था। यह जगह भीमबर जिले में नियंत्रण रेखा से बमुश्किल से 7 किलोमीटर की दूरी पर है।

रिपोर्ट के अनुसार, "बुधवार को सुबह करीब 8.45 बजे चौधरी को धुआं देखकर और आवाज सुनकर महसूस हुआ कि आसमान में विमानों के बीच संघर्ष हो रहा है।"

विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान के साथ कैसा था पाकिस्तानी आर्मी का बर्ताव देखें

(उदय बुलेटिन इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता)

पैराशूट से सुरक्षित उतरे थे विंग कमांडर अभिनंदन बर्धमान

डॉन ने प्रत्यक्षदर्शी चौधरी के हवाले से कहा कि उसने देखा कि दोनों विमानों में आग लग गई है, जिसमें से एक नियंत्रण रेखा के पार चला गया और दूसरा तेजी से नीचे गिर गया। रज्जाक ने डॉन को टेलीफोन पर बताया कि उसने देखा कि एक पैराशूट जमीन की ओर आ रहा है, जो कि उसके घर से करीब 1 किलोमीटर दक्षिण दिशा की ओर उतरा। पैराशूट से एक पायलट सुरक्षित अवस्था में बाहर निकला। चौधरी ने कहा, "पायलट के पास पिस्तौल थी और उन्होंने वहां मौजूद नौजवानों से पूछा कि यह क्षेत्र भारत है या पाकिस्तान। उनमें से एक ने कहा कि यह भारत है।"

पैराशूट से उतर के लगाया था भारत जिंदाबाद के नारे

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पायलट ने पैराशूट से उतरने के बाद कथित रूप से कुछ नारे लगाए और पूछा कि भारत में यह कौन सी जगह है।

चौधरी ने कहा कि वहां मौजूद युवाओं ने 'बड़ी चतुराई के साथ उसके नारों को दोहराया' और उसकी भ्रम की स्थिति बरकरार रखी। डॉन के अनुसार, "पायलट ने वहां मौजूद लड़कों से कहा कि उसकी 'कमर टूट गई' है और उसने पीने के लिए पानी मांगा।"

लेकिन वहां मौजूद कुछ भावुक युवा जो पायलट के नारों को बर्दाश्त नहीं कर सके, 'पाकिस्तानी सेना जिंदाबाद' के नारे लगाने लगे। जिसके बाद अभिनंदन ने हवा में फायरिंग की और लड़कों ने अपने हाथों में पत्थर उठा लिए।

चौधरी के अनुसार, स्थिति को भांप भारतीय पायलट भागने लगा। वह अपना पीछा कर रहे लड़कों की तरफ बंदूक कर आधा किलोमीटर तक भाग सका। प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि भारतीय पायलट ने उन्हें डराने के लिए हवा में फायरिंग की।

डॉन के अनुसार, अभिनंदन उसके बाद एक छोटे से तालाब में कूद गया और अपने जेब से कुछ दस्तावेज और मैप निकाले, जिसमें से कुछ को उसने निगलने की कोशिश की और बाकी को पानी में गीला कर बर्बाद करने की कोशिश की।

इन शर्तों के साथ किया था आत्मसमर्पण

चौधरी को यह जानकारी संभवत: पायलट का पीछा कर रहे लड़कों से मिली, जिसे उसने डॉन के रिपोर्टर के साथ साझा किया। चौधरी ने कहा कि लड़के अभिनंदन को लगातार हथियार डालने के लिए कह रहे थे। डॉन के अनुसार, अंत में लंबे समय के बाद भारतीय पायलट ने आत्मसमर्पण कर दिया।

अखबार की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय पायलट ने यह कहते हुए खुद को उनके हवाले कर दिया कि उसकी हत्या न की जाए। लड़कों ने उसे पकड़ लिया और कुछ ने उसके साथ हाथापाई की, जबकि कुछ अन्य हमलावरों को रोक रहे थे।

--आईएएनएस