Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
अखिलेश यादव का प्लेन लखनऊ एयरपोर्ट पर रुका
अखिलेश यादव का प्लेन लखनऊ एयरपोर्ट पर रुका|Twitter-अखिलेश यादव
टॉप न्यूज़

अखिलेश यादव को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में जाने की मंजूरी नहीं थी, फिर क्यों जा रहे थे ?

लखनऊ के इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में छात्रसंघ के वार्षिक कार्यक्रम में शिरकत करने जा रहे समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव को लखनऊ हवाई अड्डे पर ही रोक दिया गया है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

अखिलेश यादव को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के वार्षिक समारोह में नहीं जाने दिया गया उन्हें लखनऊ एयर पोर्ट पर रोक दिया गया है। जिसके बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के तेवर बदल गए है। वे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर आरोप लगा रहे हैं कि सपा बसपा के गठबंधन से योगी सरकार डर गई है इसलिए ऐसे हथकंडे अपना रही है।

लेकिन अखिलेश यादव जिस वार्षिक समारोह में जाने के लिए इतने उतावले हो रहे हैं वहां से उन्हें बुलावा आया ही नहीं है। बल्कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय ने उन्हें अपने कार्यक्रम में नहीं आने के लिए बाकायदा पत्र लिख कर माना किया था। दरअसल अखिलेश यादव इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ के वार्षिक उत्सव समारोह में जाना कहते थे लेकिन राजनीतिक दलों की कटूताके कारण विश्वविद्यालय के कुलपति ने उन्हें पत्र लिखा था कि वे इस कार्यक्रम में शामिल न हो। बावजूद अखिलेश यादव ने न सिर्फ वहां जाने की कोशिश की साथ ही उन्होंने राज्य सरकार पर मनमानी करने का आरोप भी लगाया है।

अखिलेश यादव को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में जाने की मंजूरी नहीं थी
अखिलेश यादव को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में जाने की मंजूरी नहीं थी
twitter

समारोह में शामिल नहीं होने दिए जाने के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि, एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण कार्यक्रम से सरकार इतनी डर रही है कि मुझे लखनऊ हवाई-अड्डे पर रोका जा रहा है। बिना किसी लिखित आदेश के मुझे एयरपोर्ट पर रोका गया। पूछने पर भी स्थिति साफ करने में अधिकारी विफल रहे। छात्र संघ कार्यक्रम में जाने से रोकना का एक मात्र मकसद युवाओं के बीच समाजवादी विचारों और आवाज को दबाना है।

अखिलेश यादव
अखिलेश यादव
Twitter

बबुआ के समर्थन में बुआ ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि, 'समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव को आज इलाहाबाद नहीं जाने देने कि लिये उन्हें लखनऊ एयरपोर्ट पर ही रोक लेने की घटना अति-निन्दनीय व बीजेपी सरकार की तानाशाही व लोकतंत्र की हत्या की प्रतीक। क्या बीजेपी की केन्द्र व राज्य सरकार बीएसपी-सपा गठबंधन से इतनी ज्यादा भयभीत व बौखला गई है कि उन्हें अपनी राजनीतिक गतिविधि व पार्टी प्रोग्राम आदि करने पर भी रोक लगाने पर वह तुल गई है। अति दुर्भाग्यपूण। ऐसी आलोकतंत्रिक कार्रवाईयों का डट कर मुकाबला किया जायेगा।'