Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
2019 में नितिन गडकरी होंगे प्रधानमंत्री
2019 में नितिन गडकरी होंगे प्रधानमंत्री|Google
टॉप न्यूज़

ज्योतिषी ने की भविष्वाणी, 2019 में नितिन गडकरी होंगे प्रधानमंत्री, कम होगा बीजेपी का जनाधार

पिछले साल 3 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव और 12 उपचुनाव में बीजेपी को सिर्फ 2 जीत ही हासिल हुई जिसके बाद लोगों का कहना है की मोदी का जादू खत्म हो गया है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

तीन राज्यों में बीजेपी की हार के बाद राजनीतिक विशेषज्ञयों का मानना है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी सत्ता में तो आ जाएगी लेकिन मोदी शायद ही दोबारा प्रधानमंत्री बन सके। राजनीतिकारों का यह भी मानना है कि अगर मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बन भी जाते हैं तो सरकार बहुत मुश्किल से अपने 6 महीनों का कार्यकाल ही पूरा कर पाएगी और इस विषम परिस्थिति में वर्तमान के परिवहन मंत्री नितिन गडकरी बीजेपी की नैया पार लगायेंगे। ये तो हुई राजनेताओं की बात लेकिन कुछ ऐसा ही मानना है ओंकारेश्वर के ज्योतिष विश्वविद्यालय अध्यक्ष डॉ भूपेश गाडगे का भी है।

कम होगा बीजेपी का जनाधार
कम होगा बीजेपी का जनाधार
Google

डॉ भूपेश गाडगे मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित ओंकारेश्वर ज्योतिष विश्वविद्यालय के अध्यक्ष हैं और देश के जाने माने ज्योतिषाचार्य भी हैं। वे अक्सर देश भ्रमण किया करते हैं और अलग अलग राज्यों में जाकर सांस्कृतिक व धार्मिक सभाएं करते हैं। बीते दिनों विदर्भ और अमरावती जो की महाराष्ट्र की सांस्कृतिक और धार्मिक राजधानी हैं वहां उन्होंने सम्मलेन में शिरकत की थी। इस भव्य सम्मलेन में देश भर के ज्योतिषियों ने धार्मिक मुद्दों पर अपनी राय तो दी ही साथ ही राजनीतिक रुझानों पर भी टिप्पणियां की।

डॉ भूपेश गाडगे ने इस सम्मलेन में दावा किया है कि बीजेपी 2014 की तरह 2019 के लोकसभा चुनाव में भी जीत हासिल करेगी। लेकिन इस जीत का स्वाद 2014 के लोकसभा चुनाव की तरह मीठा नहीं होगा। इस बार की जीत प्रधानमंत्री मोदी की जीत नहीं होगी बल्कि बीजेपी गठबंधन की जीत होगी। उन्होंने कहा है कि चुनाव जीत कर बीजेपी किसी तरह सत्ता में वापसी तो कर लेगी, लेकिन 2019 नवंबर आते-आते गठबंधन की मजबूरियों के चलते नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्री पद से छुट्टी हो जाएगी। जिसके बाद आरएसएस की तरफ से केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया जायेगा और नितिन गडकरी प्रधानमंत्री की कुर्सी पर विराजमान होंगे।

ये दावा कितना सही साबित होगा ये तो वक़्त ही बताएगा। लेकिन इस बारे में कोई दो मत नहीं की जहां मोदी के नाम पर पूरा विपक्ष एक जुट हो जाता हैं वहीं नितिन गडकरी को कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टियाँ भी पसंद करती हैं। बीते कल जब नितिन गडकरी संसद में अपनी उपलब्धियां बता रहे थे तो कांग्रेस की चेयरपर्सन सोनिया गांधी, विपक्ष के नेता मलिकार्जुन खड़गे भी उनके समर्थन में ताली बजा रहे थे। कुछ राजनीतिकारों का मानना है कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बाद नितिन गडकरी ऐसे नेता हैं जिनके लिए विपक्ष भी एकजुट हो सकता है

खैर ये राजनेता कब अपनी बात से मुकर जाये ये बताना मुश्किल है लेकिन जब बात आंकड़ों और सर्वेक्षणों की होती हैं तो भी नितिन गडकरी का कद मोदी की तुलना में अधिक है। पिछले दिनों कुछ निजी सर्वेक्षणों में भी दावा किया गया था की 2019 में बीजेपी का जनाधार खिसक रहा है। अगर 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी 200 सीटों में सिमट जाती है तो मोदी का प्रधानमंत्री बनना मुश्किल होगा। बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना हो या रालोसपा, मोदी के व्यवहार से सहयोगी दलों की स्थिति ख़राब हुई हैं।

आरएसएस भी मोदी से दुखी हैं, अगर बीजेपी 2019 के लोकसभा चुनाव में कम सीटें लेकर आती तो संघ ये कभी नहीं चाहेगा की मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बने। संघ तो बस नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री की कुर्सी में बैठे देखना चाहता है। हालांकि नितिन गडकरी से जब ये सवाल पूछा गया कि क्या आप खुद को 2019 में प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार मानते हैं तो उन्होंने साफ़ इंकार कर दिया। उन्होंने कहा -

‘इसका कोई सवाल ही नहीं उठता, मैं जहां हूं खुश हूं।’
नितिन गडकरी