उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
अलका लाम्बा को आप से निकालने की मंशा नहीं 
अलका लाम्बा को आप से निकालने की मंशा नहीं |Google
टॉप न्यूज़

आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लाम्बा को पार्टी से निकालने की कोई मंशा नहीं- आप प्रवक्ता

आम आदमी पार्टी (आप) ने मंगलवार को कहा कि उसकी अपने विधायक अलका लाम्बा को पार्टी से निकालने की कोई मंशा नहीं है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) ने मंगलवार को कहा कि उसकी अपने विधायक अलका लाम्बा को पार्टी से निकालने की कोई मंशा नहीं है। आप प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने यह बात आईएएनएस से कही। सौरभ भारद्वाज ने यह बयान अलका लाम्बा द्वारा आप प्रमुख व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा ट्विटर पर उन्हें अनफालो किए जाने की बात कहने के बाद दिया है।

दरअसल आप विधायक अलका लाम्बा ने बीते दिनों आप नेतृत्व से नाखुशी जाहिर करते हुए पार्टी में अपनी स्थिति को लेकर रुख स्पष्ट करने को कहा है। अलका लम्बा ने कहा था -

मुझे ऐसा लग रहा है कि पार्टी को अब मेरी सेवाओं की जरूरत नहीं है। लेकिन जब तक मैं एक विधायक हूं, तब तक मैं अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों की सेवा करती रहूंगी।
अलका लाम्बा

अलका लांबा ने आप के खिलाफ बोलते हुआ कहा था कि उन्होंने आम आदमी पार्टी नेतृत्व को एक संदेश भेजा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि पार्टी में उनकी स्थिति पर नेतृत्व अपना रुख साफ करे। उनके संदेश को चांदनी चौक निर्वाचन क्षेत्र के संगठन सचिव के जरिए पार्टी नेतृत्व तक पहुंचा दिया गया है।

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा

पार्टी को उन्हें निकालने की कोई मंशा नहीं है। एक पार्टी के लिए लोगों को निलंबित करना बहुत सहज है। हमने निलंबन के बाद भी लोगों को वापस लिया है, जब उनमें बदलाव देखा है।
सौरभ भारद्वाज

उन्होंने कहा, "आपको पार्टी में या किसी भी अन्य संगठन में निश्चित अनुशासन व शिष्टाचार का पालन करना होता है।"

ट्विटर पर अनफालो करने के संदर्भ में उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से मुख्यमंत्री की पसंद है कि वह किसे फालो करना चाहते हैं।

आपको बात दें कि, लाम्बा ने दिसंबर में दावा किया था कि पार्टी ने उनसे इस्तीफा मांगा है। उन्होंने कहा कि उन्हें व्हाट्सप ग्रुप से भी हटा दिया गया है। उन्होंने कहा कि

“व्हाट्सऐप ग्रुप्स से हटाना, ट्विटर पर अनफॉलो करना और मीटिंग्स में न बुलाना...इस तरह की चीजों से मुझे लगता है कि मैं उसी स्थिति और सम्मान के लायक हूं जैसा बाकी विधायकों के साथ होता है। अन्यथा, मेरे लिए अब पार्टी में रहकर काम करना बहुत मुश्किल होगा ।मैं स्वाभिमान से समझौता नहीं कर सकती ।”
लाम्बा

हालांकि आम आदमी पार्टी ने विधायक अलका लम्बा के बयान को खारिज करते हुए कहा कि, अलका लम्बा पार्टी की सदस्य नहीं रहेंगी। पार्टी ने अलका लम्बा के बयान से इनकार किया है।