Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
Budget 2019: राहुल गांधी बोले
Budget 2019: राहुल गांधी बोले|Google
टॉप न्यूज़

Budget 2019: राहुल गांधी बोले, किसानों को 17 रूपये देना उनकी समस्याओं के साथ क्रूर मजाक है

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि मोदी सरकार की प्रत्येक गरीब और छोटे किसानों को सीधे 6,000 रुपये का आय समर्थन देने की योजना उन सब चीजों का ‘अपमान’ है

Uday Bulletin

Uday Bulletin

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि मोदी सरकार की प्रत्येक गरीब और छोटे किसानों को सीधे 6,000 रुपये का आय समर्थन देने की योजना उन सब चीजों का 'अपमान' है जिसके लिए किसान खड़े हैं और काम करते हैं। राहुल ने ट्विटर पर सरकार पर निशाना साधते हुए इस योजना को खारिज कर दिया।

उन्होंने कहा, "प्रिय नमो (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) पांच वर्ष में आपकी अक्षमता और अहंकार ने हमारे किसानों की जिंदगी बर्बाद कर दी।"

राहुल ने हैशटैग 'आखिरी जुमला बजट' के साथ ट्वीट का अंत करते हुए लिखा, "एक दिन के लिए 17 रुपये देना उस हरकुछ के लिए अपमान है, जिसके लिए वे (किसान) खड़े हैं और काम करते हैं।"

कांग्रेस ने बजट को नकार दिया है और इसे 'भाजपा का चुनावी घोषणा पत्र' बताया है। पूर्व वित्तमंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी.चिदंबरम ने अंतरिम बजट को लेखानुदान नहीं, बल्कि वोटों का लेखाजोखा बताया और कहा कि मोदी सरकार ने वित्तीय स्थिरता को और कमजोर किया है। चिदंबरम ने यहां मीडिया से कहा, "यह 'वोट ऑन अकाउंट' नहीं बल्कि 'अकाउंट फॉर वोट' है।" उन्होंने कहा, "यह एक पूर्ण बजट था, जिसके साथ चुनाव प्रचार का भाषण भी था। ऐसा करके सरकार ने पुरानी परंपरा को रौंदा है।

किसानों की दी जाने वाली आर्थिक मदद के ऐलान पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सरकार की पीठ थपथपाई है। उन्होंने कहा कि सरकार 75 हजार करोड़ का बोझ सहन कर किसान भाइयों की मदद के लिए खड़ी रहेगी। अमित शाह ने कहा कि बैंक का कर्ज सिर्फ एक बार माफ होता है और आधे से ज्यादा किसान जो कर्ज भी नहीं लेते हैं, उन्हें भी इस योजना का लाभ होगा।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केंद्र सरकार के बजट पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह बजट जुमला और छलावा साबित होगा। केंद्रीय वित्तमंत्री पीयूष गोयल द्वारा शुक्रवार को संसद में पेश किए गए बजट पर अपनी प्रतिक्रिया में कमलनाथ ने कहा, "आज पेश आम बजट पूरी तरह से चुनावी बजट होकर जुमला व छलावा साबित होगा। मोदी सरकार के इस आखिरी बजट से भी अच्छे दिन की उम्मीद खत्म हो गई।"

कमलनाथ ने आगे कहा, "कार्यकाल के अंतिम समय में किसान, गरीब, मजदूर, गौमाता की याद आई। किसानों के लिए घोषित राशि 'ऊंट के मुंह में जीरा' के समान है।"

ज्ञात हो कि केंद्र सरकार ने बजट में कम आय वालों और किसानों को बड़ी सौगात दी है। आयकर की सीमा बढ़ाकर पांच लाख रुपये तक कर दी गई है, वहीं दो हेक्टेयर जमीन के मालिक किसानों को छह हजार रुपये वार्षिक मदद का प्रावधान किया गया है। सरकार यह मदद किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत हर साल तीन किश्तों में देगी।