Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
कोलकाता में मामता बनर्जी का शक्ति प्रदर्शन
कोलकाता में मामता बनर्जी का शक्ति प्रदर्शन
टॉप न्यूज़

2019 लोकसभा चुनाव से पहले कोलकाता में मामता बनर्जी का शक्ति प्रदर्शन, विपक्षी एकता की महारैली

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) आज कोलकाता (Kolkata) में महारैली को संबोधित करने जा रही है। महारैली के इस मंच विपक्षी एकता का शक्ति प्रदर्शन होगा।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) आज कोलकाता (Kolkata) में महारैली को संबोधित करने जा रही है। महारैली के इस मंच विपक्षी एकता का शक्ति प्रदर्शन होगा। इस मंच पर आज देश के २० बड़े नेता शामिल होंगे। कोलकाता का ब्रिगेड परेड ग्राउंड लोकसभा चुनाव के इस सियासी पिच का गवाह बने गा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की महारैली में शनिवार यानी आज न सिर्फ विपक्षी एकता की झलक दिखेगी, बल्कि केंद्र की मोदी सरकार को एक संदेश देने की भी कोशिश होगी। करीब 20 विपक्षी दलों के एक मंच पर जुटान से लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) से ठीक पहले ऐसा लगने लगा है कि पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में एक बार फिर से विपक्षी एकता की झलक देखने को मिल सकती है। इतना ही नहीं, लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों की क्या रणनीति होगी इसका भी खाका तैयार करने पर जोर होगी।

ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की कोलकाता में होने वाली ‘संयुक्त विपक्षी रैली' में विपक्षी दलों से समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव, डीएमके चीफ एमके स्टालिन, पूर्व बीजेपी नेता अरुण शौरी, शरद यादव, अरविंद केजरीवाल आदि शामिल हो सकते हैं।

बीजू जनता दल (बीजद) और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) नीत वाम मोर्चे के अलावा सभी विपक्षी पार्टियों के नेता इस रैली में हिस्सा लेंगे। इस रैली के बारे में तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि यह आगामी लोकसभा चुनावों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए ‘‘ताबूत में आखिरी कील’’ होगी।

बनर्जी ने ट्वीट किया, “ब्रिगेड परेड ग्राउंड में ऐतिहासिक “एकजुट भारत रैली” में कुछ ही घंटे शेष हैं। मैं एकजुट, मजबूत एवं प्रगतिशील भारत बनाने की प्रतिज्ञा के लिए सभी राष्ट्रीय नेताओं, समर्थकों एवं लाखों लोगों का इस रैली में हिस्सा लेने के लिए स्वागत करती हूं।”

पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा, उनके बेटे एवं कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, शरद पवार, फारुक अब्दुल्ला, शरद यादव, अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव, हेमंत सोरेन एवं अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री गेगोंग अपांग समेत 20 से अधिक राष्ट्रीय नेता इस रैली में शामिल होने के लिए शुक्रवार को कोलकाता पहुंचे। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के भी इसमें शामिल होने की उम्मीद है।

भले ही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती रैली में शामिल नहीं होंगी लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र उनकी ओर से मौजूद रहेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी रैली को अपना समर्थन दिया है। लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे एवं अभिषेक मनु सिंघवी रैली में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं।

रैली की भारी सफलता को सुनिश्चित करने के लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां की गई हैं। बड़े-बड़े मंचों के अलावा, 20 टॉवर खड़े गए हैं और 1,000 माइ्क्रोफोन एवं 30 एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं ताकि दर्शक नेताओं को साफ तौर पर देख एवं सुन सकें।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजामों के लिए रैली वाले स्थान के अंदर एवं आस-पास 10,000 सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की जाएगी और 400 पुलिस पिकेट लगाए जाएंगे। राज्य भर से तृणमूल कांग्रेस के लाखों समर्थक एवं कार्यकर्ता शहर पहुंच रहे हैं। पुलिस ने बताया कि रैली स्थान के आस-पास वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित कर दी गई है।