उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Alliance of SP-BSP for loksabha election 2019
Alliance of SP-BSP for loksabha election 2019
टॉप न्यूज़

लोकसभा चुनाव: उत्तर प्रदेश में SP-BSP का हो गया गठबंधन, कल आ सकता है सीटों पर फैसला 

लोकसभा चुनाव 2019 में SP-BSP के गठबंधन पर अखिलेश यादव और मायावती कल एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगें। संभावना है की कल SP-BSP गठबंधन का ऐलान कर सकते हैं। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

उत्तर प्रदेश: लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती और समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव कल शनिवार को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन करेंगे। यह जानकारी शुक्रवार सुबह बसपा के महासचिव सतीश मिश्रा और सपा सचिव राजेंद्र चौधरी ने एक साझा बयान में दी।

प्रेस निमंत्रण के अनुसार, इस प्रेस निमंत्रण पर सपा के राष्ट्रीय महासचिव राजेंद्र चौधरी और बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने संयुक्त हस्ताक्षर किए हैं। यह संयुक्त संवाददाता सम्मेलन पांच सितारा होटल ताज में आयोजित होगा। सूत्रों ने बताया कि दोनों दलों के बीच खाका तैयार होने के साथ शीर्ष नेता आगामी लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन का ऐलान कर सकते हैं। इसके साथ ही कल सीटों का ऐलान भी हो सकता है।

पिछले सप्ताह दोनों शीर्ष नेताओं की दिल्ली में भी मुलाकात की खबरें आईं थीं और कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया बसपा-सपा के बीच गठबंधन पर बातचीत चल रही है और कांग्रेस को इसमें शामिल नहीं किया जाएगा। SP-BSP छोटे दलों को भी साथ लेकर चलने की योजना में है। राष्ट्रीय लोकदल और निषाद पार्टी भी इस गठबंधन का हिस्सा हो सकती है। मायावती और अखिलेश यादव सीट-बंटवारे के फॉर्मूले को अंतिम रूप देने के करीब पहुंच गए हैं और अब बस सिर्फ ऐलान की देरी है।

आपको बता दें कि, उत्तरप्रदेश में लोकसभा की 80 सीटें हैं। बताया तो यह भी जा रहा है कि सपा-बसपा के बीच 37-37 सीटों पर करार हुआ है। जबकि वे अजीत सिंह के राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के लिए दो सीटें छोड़ देंगे। यह गठबंधन कांग्रेस के लिए अमेठी और रायबरेली इन दो सीटें को भी छोड़ सकता है। इसका मतलब यह साफ है कि कांग्रेस इस गठबंधन का हिस्सा नहीं है। SP-BSP के गठबंधन के बाद कांग्रेस और बीजेपी को बड़ा झटका लगने वाला है।

आपको बता दें कि 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी। बीजेपी को 2014 के चुनाव में 80 में से 71 सीटें मिली थी। जबकि SP 5 सीटें लेकर आई थीं ,कांग्रेस ने रायबरेली और अमेठी की सीटें जीती थीं, जबकि मायावती की बसपा को एक भी सीट नहीं मिल पाई थी।