उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
योगी आदित्यनाथ
योगी आदित्यनाथ|Google
टॉप न्यूज़

योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में कायम किया राम-राज्य, दो साल में एक भी दंगा नहीं 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार के दो साल पूरे होने पर अपने 21 महीने के शासनकाल की जम कर तारीफ की है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीजेपी सरकार के दो साल पूरे होने पर अपने 21 महीने के शासन काल की जम कर तारीफ की है। मुख्यमंत्री योगी ने दावा किया है कि उनके शासन काल में उत्तर प्रदेश विकाश और प्रगति के राह में अग्रसर रहा है। मुख्यमंत्री जी ये जानकारी अपने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर साझा की है। उन्हें उत्तर प्रदेश की तरक्की को बताने के लिए लगातार 7 ट्वीट किया है। उन्होंने कहा कि 'मैंने उत्तर प्रदेश के बारे में लोगों की धारणा बदल दी है। दो साल पहले तक, लोग यूपी को ज्यादातर भ्रष्टाचार, विधिहीनता, अराजकता और दंगों के लिए जानते थे। सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि देश के बाहर भी लोगों के मन में यूपी को लेकर यही धारणा थी।’

साथ ही मुख्यमंत्री जे ने ये दावा किया है कि उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद राज्य में अभी तक कोई दंगा नहीं हुआ है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा "मार्च में मेरे शासनकाल के दो वर्ष पूरे होंगे। मेरे अब तक के शासन में, कोई दंगा नहीं हुआ है।"

अपराध का गढ़ माना जाने वाला उत्तर प्रदेश के बारे में योगी जा का कहना है कि हमने अपराध पर काबू पा लिया। उन्होंने लिखा कि "हमने संगठित किस्म के अपराध पर एक हद तक काबू पा लिया है। हमने कानून के राज को मजबूत बनाया है। पारिवारिक झगड़े या निजी दुश्मनी के कुछ मामलों को छोड़ दें तो फिर पूरे प्रदेश में अब लोग सुरक्षित हैं। धारणा में आए बदलाव के कारण सूबे में निवेश आ रहा है। आज देश और दुनिया की तमाम जगहों से बड़े-बड़े उद्योगपति यूपी में निवेश करने को उत्सुक हैं। राज्य में 2 लाख करोड़ का निवेश आ चुका है जो अपने आप में अप्रत्याशित है।"

मुख्यमंत्री जी ने आगे कहा कि "संविधान में मेरी निष्ठा भारत के उन ऋषि-मुनियों की परंपरा का ही हिस्सा है जो किसी अन्य देश काल में सामाजिक व्यवस्था कायम करने के लिए स्मृतियों (सामाजिक आचार संहिता) की रचना कर रहे थे। आजादी के बाद के दौर में “भारतीय संविधान” को देश ने अपने सबसे पवित्र संहिता के रूप में अपनाया और इस संहिता को अटूट विश्वास से अंगीकार किया। अतीत में हमारे ऋषियों ने मनुस्मृति सहित अनेक स्मृतियां बनाई थीं ताकि समाज को चेतना के विभिन्न धरातल पर संचालित किया जा सके।"

मुख्यमंत्री जी ने अपने आखिरी ट्वीट में लिखा कि "गोरक्षपीठ के महंत की अपनी भूमिका को मैं मुख्यमंत्री के अपने संवैधानिक पद के असंगत नहीं मानता। मैंने अपनी राजनीति को सेवा से जोड़ा है और इसमें मुझे अध्यात्म का आनंद मिलता है।"

बरहाल योगी जी ने भले ही अपने शासनकाल को राम राज्य घोषित किया हो लेकिन उत्तर प्रदेश की हालत देश और दुनिया के सामने है। देश जानता है कि कैसे उत्तर प्रदेश में एक पुलिस अफसर भी सुरक्षित नहीं है तो काम लोगों की बात करना और बोलना बेवकूफी होगी। बुलंदशहर हिंसा हो गाजीपुर हिंसा उत्तर प्रदेश जानती है।